MP IPS Transfer: एमपी में पुलिस महकमा भीतर ही भीतर सरकार के फैसले से नाराज

Share

MP IPS Transfer: डीजी लोकायुक्त पद से हटाए गए मकवाना के बेटे ने पिता के फैसले पर जताया गर्व, सोशल मीडिया पर ट्रोल हुई एमपी सरकार, जीरो टॉलरेंस नीति का दावा करने वाले मुख्यमंत्री के बयानों को लेकर किए जा रहे तंज

MP IPS Transfer
मध्यप्रदेश पुलिस मुख्यालय भवन- फ़ाइल फोटो

भोपाल। मध्यप्रदेश कैडर में 1988 बैच के आईपीएस कैलाश मकवाना के तबादले (MP IPS Transfer) से सोशल मीडिया में एमपी सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है। फेसबुक, ट्वीटर समेत कई अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भ्रष्टाचार को लेकर दिए गए बयानों पर मजाक उड़ाया जा रहा है। इसमें कांग्रेस नेता के साथ—साथ पत्रकार और पुलिस महकमे के अफसर भी शामिल है। इस बीच कैलाश मकवाना के बेटे—बेटी ने भी फैसले पर पिता का साथ देते हुए सिस्टम को लेकर तंज कसा। मकवाना के पुत्र भी भारतीय पुलिस सेवा के अफसर है और वे इस वक्त बीएसएफ में तैनात हैं।

देश सेवा के लिए दो पीढ़ियों का योगदान

मीडिया में चल रही खबर के अनुसार लोकायुक्त और डीजी के बीच पटरी छह महीनों से बैठ नहीं रही थी। इस कारण मामला सरकार के पास पहुंचा था। कैलाश मकवाना (IPS Kailash Makwana) को छह महीने पहले ही लोकायुक्त में डीजी बनाया गया था। उन्होंने भ्रष्टाचार को लेकर कई फाइलें खोल दी थी। तबादले के बाद मकवाना ने एक अफसर के बयान का स्क्रीन शॉट ट्वीटर पर टैग करके अपनी नाराजगी जता दी थी। आईपीएस अफसर ने उनके छह महीनों के कार्य की सराहना की थी। अब इसके बाद मैदान में कैलाश मकवाना के समर्थन में बेटी श्रृति मकवाना (Shruti Makwana) सामने आई गई। उन्होंने कहा कि उसूलों में जहां आंच आए टकराना जरूरी हैं, जो जिंदा हो तो फिर जिंदा नजर आना जरूरी है। बेटी ने यह लिखने के बाद पिता के सोशल मीडिया पर वायरल तबादला आदेश अटैच किया है।

आईपीएस एसोसिएशन की चुप्पी पर सवाल

MP IPS Tranfer
IPS कैलाश मकवाना दाहिनी तरफ अपने IPS बेटे रिषभ मकवाना बाएं तरफ के साथ। सोशल मीडिया पर शनिवार को यह तस्वीर दिनभर ट्रोल होती रही।

इसके बाद कैलाश मकवाना ने अपने बेटे रिषभ मकवाना (IPS Rishabh Makwana) की तस्वीर भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट में अटैच की। इसमें वे बीएसएफ की पासिंग परेड के दौरान पिता—पुत्र वर्दी पर नजर आ रहे हैं। जिसमें लिखा है कि दो पीढ़ियां देश की सेवा के लिए। इधर, डीएसपी कैलाश सिंह पंवार ने लिखा भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने वाले आईपीएस अधिकारी (MP IPS Transfer) को हटाकर भ्रष्ट भिखारी अधिकारियों का हौसला बुलंद कर दिया। जनता को गुमराह कर रहे हैं। इस मामले में पत्रकार एनके सिंह (NK Singh) ने भी कटाक्ष करते हुए आईपीएस एसोसिएशन को टैग किया। मतलब साफ है कि वरिष्ठ पत्रकार ने आईपीएस एसोसिएशन को इस मामले में बोलने के लिए इशारा किया है। खबर है कि शनिवार को मीडिया रिपोर्टिंग के बाद पुलिस मुख्यालय समेत कई जिलों में पुलिस के अधिकारी सरकार के इस निर्णय के खिलाफ है। हालांकि अभी तक यह खुलकर सामने नहीं आया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Murder Case: महिला की बेरहमी से हत्या, पति ने चाकू से गोद दिया

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP IPS Transfer
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!