Bhopal AIIMS Job Fraud: दर्जनों बेरोजगारों से ऐंठ लिए लाखों रुपए

Share

Bhopal AIIMS Job Fraud: आधा दर्जन से अधिक नियुक्ति पत्र लेकर पहुंचे तो उजागर हुआ फर्जीवाड़ा, एम्स अस्पताल के महिला समेत दो अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध

Bhopal AIIMS Job Fraud
भोपाल एम्स, फाइल फोटो— ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान में नौकरी दिलाने का बड़े फर्जीवाड़े (Bhopal AIIMS Job Fraud) का खुलासा किया है। इस मामले में एम्स अस्पताल प्रबंधन के भीतर ही दो अफसरों की भूमिका संदिग्ध पाई जा रही है। यह मामला भोपाल एम्स अस्पताल से जुड़ा है। हालांकि पुलिस ने आउटसोर्स पर तैनात नर्स के खिलाफ जालसाजी काप्रकरण दर्ज किया है। अब तक पुलिस के सामने पांच लोग जो फर्जीवाड़े के शिकार हुए है वह सामने आए है। पुलिस ने संभावना जताई है कि इनकी संख्या सैकड़ों में है।

चार महीने से चल रही थी जांच

बागसेवनिया थाना पुलिस के अनुसार 21 अक्टूबर की शाम लगभग छह बजे 758/21 धारा 420 (जालसाजी) का केस दर्ज किया गया है। इस मामले में घटनास्थल अखिल भारतीय आर्युविज्ञान संस्थान परिसर है। पुलिस ने एफआईआर गीता चौहान पति विजय चौहान उम्र 39 साल की शिकायत पर दर्ज किया है। वह बागमुगालिया एक्सटेंशन स्थित रामेश्वरम कॉलोनी में रहती है। पुलिस ने इस प्रकरण में जांच के बाद आरोपी विजय लक्ष्मी वंशकार (Vijay Laxmi Vanshkar) को बनाया है। गीता चौहान (Geeta Chouhan) से आरोपी ने एम्स अस्पताल में नौकरी लगाने के नाम पर करीब एक लाख 21 हजार रुपए ऐंठ लिए गए। इस संबंध में फर्जीवाड़े की जानकारी पुलिस को जून, 2021 में लग गई थी। जिसके बाद जांच की गई तो पुलिस भी फर्जीवाड़े को जानकार हैरान रह गई।

यह भी पढ़ें:   अमिताभ के शो में जीते थे 50 लाख अब गबन की आरोपी है ये तहसीलदार

जांच का बोलकर पल्ला झाड़ा

Bhopal AIIMS Job Fraud
फाइल फोटो — थाना बागसेवनिया, भोपाल

पुलिस को पड़ताल में पता चला कि गीता चौहान जैसे दर्जनों लोगों को आरोपी ने झांसा दिया। जांच के बाद भदभदा निवासी दुर्गा उईके पति भंवर उईके, साई बाबा नगर निवासी वर्षा पति शैलेंद्र सोहित, इटारसी निवासी रोहित सिंह पिता इंदल सिंह, बैरागढ़ निवासी विवेक पांडे (Vivek Pandey) से भी आरोपी ने पैसे ऐंठे थे। सभी से एम्स में जॉब दिलाने के नाम पर एक लाख, 15 हजार रुपए ऐंठे गए थे। यह रकम एम्स में नर्सिग स्टाफ, अटेंडर, तकनीशियन पोस्ट के लिए ली गई थी। मामले की जांच एसआई बीके सिंह (SI BK Singh) कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी इस मामले में कई अन्य बिंदुओं की पड़ताल की जारही है। इसलिए उन बातों को उजागर करने से जांच प्रभावित हो सकती है। फिलहाल मामले में अभी एक ही आरोपी है।

एम्स अस्पताल प्रबंधन की भूमिका संदिग्ध

Bhopal AIIMS Job Fraud
एम्स भोपाल—फाइल फोटो

पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपियों ने बकायदा दुर्गा उईके, रोहित सिंह (Rohit Singh), विवेक पांडे, गीता चौहान समेत अन्य को नियुक्ति पत्र जारी किए थे। इस पत्र में एम्स डायरेक्टर डॉक्टर सरमन सिंह (Dr Sarman Singh), डिप्टी डायरेक्टर संतोष स्वगोरा, परीक्षा प्रकोष्ठ प्रभारी बाला साहब, डीन अकेडमी अर्पित अरोरा के नाम और हस्ताक्षर थे। इसके अलावा एम्स की सील भी लगी थी। यह बिलकुल असली जैसे लग रहे थे। लेकिन, पुलिस ने दस्तावेजों पर रिपोर्ट मांगी तो ऐसे पत्र जारी करने से इंकार कर दिया गया। सूत्रों ने बताया कि इस फर्जीवाड़े में एम्स अस्पताल की एक महिला अधिकारी समेत दो लोगों की भूमिका संदिग्ध है। इस केस में पुलिस उन्हें भी आरोपी बनाने की तैयारी कर रही है। हालांकि इसके लिए पुलिस सबूत जुटा रही है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: सीएम जब सभा में थे तब शिकार तलाश रहे थे जालसाज

यह भी पढ़ें: भोपाल के इस बिल्डर पर सिस्टम का ‘रियायती सैल्यूट’, परेशान हो रहे 100 से अधिक परिवार

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal AIIMS Job Fraud
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!