Bhopal News: महज 800 रुपए की उधारी के लिए कर दी थी हत्या

Share

Bhopal News: चोरी के मामले में गिरफ्तार हो चुका है हत्या करने वाला आरोपी

Bhopal News
क्राइम सीन पर एफएसएल जांच का साभार सांकेतिक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज (Bhopal News) बिलखिरिया थाना क्षेत्र से मिल रही है। यहां 31 मई को एक व्यक्ति की हत्या करके लाश छुपाने के लिए खदान में फेंका गया था। उसका चेहरा भारी पत्थर से कुचला भी गया था। इस मामले के आरोपी को पुलिस ने 36 घंटे के भीतर दबोच लिया है। आरोपी ने हत्या करना कबूला है। उसने कहा है कि 800 रुपए मांगने पर मृतक उसको नहीं देने की बात कर रहा था।

बहन के घर भागने की थी सूचना

बिलखिरिया थाना पुलिस को 31 मई की सुबह अर्जुन नगर—हरिपुरा के बीच खाली मैदन में एक लाश मिली थी। जिसकी पहचान उसी दिन शाम को 22 वर्षीय दीपक यादव (Deepak Yadav) ने पिता मुंशीलाल यादव 45 साल के रुप में की। उसने बताया कि उसकी पिता मुंशीलाल यादव (Munshilal Yadav) से घटना वाले दिन सुबह 10:30 बजे तक बातचीत हुई थी। वह शराब पीते थे और उनके कई दोस्त है। यह बताया गया था। मृतक का परिवार आनंद नगर के पास टीआईटी कॉलेज के नजदीक रहता है। घटना वाले दिन जो भी व्यक्ति मुंशीलाल यादव के संपर्क में आया वह मिल गया था। लेकिन, एक संदेही पुलिस को नहीं मिला। जिसके फरार होने की संभावना का पता लगाया तो मालूम हुआ कि वह गुना (Guna) में रहने वाली बहन के घर जा सकता है।

यह भी पढ़िए: आम जनता से उठक—बैठक लगाने वाली पुलिस जेके अस्पताल के रसूख के आगे कैसे बौनी होती चली गई

यह भी पढ़ें:   Loan Fraud : मैनेजर के साथ मिलकर मां-बेटे ने लगाई करोड़ों रुपए की चपत

नाबालिग था जब जा चुका जेल

Bhopal News
सांकेतिक चित्र —साभार

इस अंधे कत्ल के खुलासे में बिलखिरिया टीआई उमेश सिंह चौहान (TI Umesh Singh Chouhan) के अलावा अशोका गार्डन, अयोध्या नगर, अवधपुरी, ऐशबाग थाना प्रभारी की भी मदद ली गई। पुलिस को कड़ियों को जोड़ने में 36 घंटे लगे। आरोपी दीपक परिहार पिता कंछेदी लाल उम्र 26 साल पर दबाव पड़ा तो वह भोपाल वापस आ गया। वह मुंशीलाल के घर के नजदीक ही रहता था। उसने पूछताछ में बताया कि घटना वाले दिन दोनों शराब पीने की जुगाड़ में निकले थे। उन्हें शराब नहीं मिली तो वहां उसका 800 रुपए वापस मांगने को लेकर विवाद हुो गया। झूमाझटकी में वह पत्थर पर गिरकर जख्मी हो गया। उस वक्त वह जिंदा था। उसे शक था कि वह उसका नाम बता देगा। इसलिए उसकी हत्या करके वह भाग गया। दीपक परिहार (Deepak Parihar) पिपलानी थाने में 2012 में सेंट्रीग प्लेट चोरी मामले में गिरफ्तार हो चुका है।

Don`t copy text!