Organised Child Pornography भारत से चल रहे रैकेट की अमेरिका ने दी सूचना

Share

गुजरात से संचालित नेटवर्क को किया गया ध्वस्त, फेसबुक की मदद से तीन आरोपी चला रहे थे अपना नेटवर्क

Delhi pornography crime
सांकेतिक फोटो

दिल्ली। विश्व में चाइल्ड पोर्नग्राफी (#Organised Child Pornography) के लिए भारत साफ्ट टारगेट पर आ गया है। इसी कारण अमेरिका, रुस समेत तमाम अन्य विकसित देश ने निगरानी का दायरा भी बढ़ा दिया है। ताजा मामला अमेरिका के एक अशासकीय संस्था (American NGO) की मदद से सामने आया है। इस संस्था ने गुजरात (#Gujrat Crime) से संचालित एक संगठित चाइल्ड पोर्नग्राफी के नेटवर्क (Organised Child Pornography Racket) का खुलासा किया है। सूचना के बाद अहमदाबाद सायबर सेल (Ahmedabad Cyber Cell) ने दबिश देकर तीन आरोपियों को दबोच लिया है। यह आरोपी बच्चों की अश्लील वीडियो दुनियाभर में परोस रहे थे।

अहमदाबाद क्राइम ब्रांच (Ahmedabad Crime Branch) ने वलसाड में फेसबुक मैसेंजर से चाइल्ड पोर्नोग्राफी की अश्लील वीडियों फोटो और साइट की लिंक शेयर करने के नेटवर्क का पर्दाफाश किया है। मुंबई (Mumbai Pornography Racket) के दो युवकों के साथ चाइल्ड पोर्नोग्राफी की लिंक, और वीडियो फेसबुक मैसेंजर से शेयर करने वाले युवक को वलसाड के होने की जानकारी मिली थी। जिसके बाद गृह मंत्रालय (MHA) ने एलसीबी को जांच सौंपी थी। जिसमें पुलिस ने गुंदलाव ब्रिज के नीचे से 23 साल के एक युवक को दबोच लिया है। जिसकी शिकायत अमेरिका की एक एनजीओ ने की थी। यह एनजीओ चाइल्ड पोर्नोग्राफी, रेप और गैंगरेप के टिप्स सर्च करने और डाउनलोड करने वाले व्यक्तियों पर आॅनलाइन नजर रखता है। इसी अमेरिका की संस्था ने 16 अक्टूबर को भारत सरकार के गृह मंत्रालय के सीसीपीडब्ल्यूसी पोर्टल पर आॅनलाइन इस मामले की शिकायत की थी। जिसकी जानकारी गुजरात क्राइम ब्रांच (Gujrat Crime Branch) और रेलवेज साइबर क्राइम से जरिए की गई थी। जिसमें वलसाड के गुंदलाव में रहने वाले लवकेश कुमार (Lovekesh Kumar) और रामकेश शाह (Ramkesh शाह) नामक फेसबुक आईडी से बार-बार चाइल्ड पोर्नोग्राफी के फोटो, वीडियो क्लिप्स डाउनलोड और शेयर करने की जानकारी मिली थी। गृह मंत्रालय के निर्देश पर वलसाड एलसीबी ने मोबाइल नंबर ट्रेस करके गुंदलाव चौराहे के पास से लवकेश शाह को गिरफ्तार कर लिया है। जिसमें रूरल पुलिस शिकायत दर्ज कर आगे की जांच-पड़ताल कर रही है।

यह भी पढ़ें:   दीदी तो गईं नहीं, भाजपा आगे आ गई

वलसाड में रहने वाला लवकेश शाह छह महीने से फेसबुक पर मुंबई के दो साथियों के संपर्क में था। मुंबई के धीरज निषाद और धरमराज के फेसबुक आईडी से भेजे गए वीडियो और लिंक को लवकेश मोबाइल से अन्य आईडी पर शेयर करता था। आरोपियों के विदेशी नेटवर्क को पुलिस खंगालने का काम कर रही है।

Don`t copy text!