Naxal Arrest : 21 की उम्र में उठाए हथियार, 6 साल में बन गई नक्सलियों की डिप्टी कमांडर

Share

कई वारदातों को दिया अंजाम, पुलिस ने घोषित किया था 8 लाख का ईनाम

कवासी मंगली

दंतेवाड़ा। बस्तर में रहने वाली एक युवती ने नक्सली विचारधारा से प्रभावित होकर 21 साल की उम्र में हथियार उठा लिए थे। 6 साल में उसने इतनी वारदातों को अंजाम दे दिया कि पुलिस ने उसके ऊपर 8 लाख रुपए का ईनाम घोषित किया था। वहीं नक्सलियों ने उसे ईनाम के रूप में डिप्टी कमांडर बना दिया था। लेकिन पुलिस के एंटी नक्सल ऑपरेशन से वो बच नहीं पाई। आखिरकार पुलिस को बड़ी सफलता हाथ लगी और उसने हार्डकोर महिला नक्सली को गिरफ्तार (Naxal Arrest)  कर लिया।

बस्तर जिले के कतेपाल कोवासी गांव में रहने वाली कोवासी मंगली ने 2013 में नक्सली संगठन ज्वॉइन किया था। कटेकल्याण एरिया कमेटी के सदस्य के रूप में भर्ती हुई मंगली को डिप्टी कमांडर हुर्रा के एनकाउंटर के बाद डिप्टी कमांडर बनाया गया था।

पुलिस के मुताबिक मंगली कुआकोंडा, मारजूम, कुन्ना डब्बा में हुई पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में शामिल रहीं थी। जिसके बाद उस पर 8 लाख का ईनाम घोषित किया गया था। नक्सली मिलिट्री प्लाटून 26 की डिप्टी कमांडर मंगली की गिरफ्तारी में दंतेश्वरी लड़ाकों की अहम भूमिका रही।

यह भी पढ़ें:   नक्सलियों की कायराना हरकत, 2 युवकों को उतारा मौत के घाट, एसपी को बताया जिम्मेदार
Don`t copy text!