नक्सल प्रभावित क्षेत्र में बढ़ रहे जवानों की आत्महत्या के मामले

Share

बीते 2 वर्षों में राज्य के 50 जवानों ने की आत्महत्या

सांकेतिक चित्र

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पुलिस जवानों के आत्महत्या के मामले बढ़ते ही जा रहे है। बीते दो वर्षों में राज्य में तैनात 50 जवानों ने आत्महत्या की है। नक्सल प्रभावित क्षेत्र बस्तर में ही 18 जवानों ने आत्मघाती कदम उठाया है। राज्य सरकार ने ये जानकारी पिछले सप्ताह विधानसभा में दी थी। जिसके बाद अब आत्महत्या का 51 वां मामला नक्सल प्रभावित जिले नारायणपुर से सामने आया है। यहां एक जवान ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

नारायणपुर में तैनात एक जवान ने खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। सशस्त्र बल का जवान अनिल कुमार 16 वीं बटालियन में तैनात था। 32 वर्षीय अनिल ने बटालियन के शिविर में ही आत्मघाती कदम उठा लिया। जिला पुलिस के अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी को बताया कि ओरछा थाना इलाके के सीएएफ की 16 वीं बटालियन में अनिल कुमार यादव ने सुसाइड कर लिया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि कल रात जब अन्य जवान बैरक में सो रहे थे तब अनिल कुमार ने खुद को गोली मार ली। गोली की आवाज सुनने के बाद जवान वहां पहुंचे तब उन्होंने अनिल कुमार को खून से लथपथ देखा।

अधिकारियों ने बताया कि जवान के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के निवासी अनिल कुमार ने आत्महत्या क्यों की है, इस संबंध में अभी तक जानकारी नहीं मिली है।

अधिकारियों ने बताया कि उनके साथी जवानों ने बताया कि वह पिछले कुछ दिनों से व्यक्तिगत कारणों से परेशान था। पुलिस को आशंका है कि परेशानियों के चलते जवान अनिल कुमार ने यह कदम उठाया है।

यह भी पढ़ें:   दो नाबालिग सगी बहनों के साथ 11 युवकों ने किया गैंगरेप
Don`t copy text!