Bhopal Robbery News: सुपारी देकर डकैती कराई 

Share

Bhopal Robbery News: आदर्श आचार संहिता के दौरान घर के भीतर 49 लाख रुपए होने के सवाल पर भोपाल पुलिस कमिश्नर ने यह बोलकर विषय की गंभीरता को हल्का कर दिया, शक न हो इसलिए बदमाशों से बोलकर हमला भी कराया, पुलिस ने बरामद किए 49 लाख रुपए, मुख्य साजिश में शामिल ड्रायवर समेत पांच आरोपी गिरफ्तार

Bhopal Robbery News
डकैतों का खुलासा करते हुए पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र।

भोपाल। लोकसभा चुनाव के चलते आदर्श आचार संहिता लगी हुई है। इसमें नकदी रकम को लेकर बकायदा नियमावली जारी की गई है। इसके बावजूद एक मकान में लाखों रुपए रखे थे। यह रकम इतनी मात्रा में है उस मकान के भेदिए जो वाहन चालक है उसने गिरोह को बता दिया। जिसके बाद सुनियोजित तरीके से डकैती डाली गई। यह सनसनीखेज वारदात भोपाल (Bhopal Robbery News) शहर के चूना भट्टी थाना क्षेत्र की थी। जिसमें पांच घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने पूरे नेटवर्क और कहानी का पटाक्षेप कर दिया। हालांकि जब भोपाल पुलिस कमिश्नर हरिनारायण चारी मिश्र से सवाल रकम को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह न्यायालय और पीड़ित परिवार के बीच का विषय है। उन्हें अदालत में साबित करना है कि रकम उनके पास कहा से आई थी।

डीजीपी से दिलाया जाएगा ईनाम

पुलिस कमिनरेट कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान पुलिस कमिश्नर ने बताया कि इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जिन्हें गिरफ्तार किया वे लक्ष्मण सिंह कीर (Laxman Singh Keer) पिता अंतर सिंह कीर उम्र 24 साल निवासी पाल ढाबा के पीछे मिसरोद, अमित राठौर पिता रूप सिंह राठौर उम्र 24 साल निवासी वार्ड—07 संतोष नगर, मण्डीदीप जिला रायसेन, संतोष कुमार जागंडे पिता हरभजन जागंडे उम्र 31 साल निवासी किंग पार्क सिटी शिवालिक ब्लाक मण्डीदीप जिला रायसेन, सोनू अहिरवार उर्फ बलबंत पिता राजू अहिरवार निवासी वार्ड 09 राम नगर मण्डीदीप ​​जिला रायसेन और पंद्रह वर्षीय विधि विरोधी बालक है। इन सभी से 49 लाख रुपए, घटना में इस्तेमाल की गई मारूती वेन, मोटर साइकिल, पिस्टल, धारदार चाकू, हथौड़ा और लूटे गये चैक और एटीएम कार्ड बरामद किए गए हैं। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि मुख्य आरोपी लक्ष्मण सिंह कीर है। वह पीड़ित परिवार के यहां ड्रायवरी का काम करता है। उसके खिलाफ मंडीदीप में आगजनी का भी एक मुकदमा दर्ज हुआ था। यदि पीड़ित परिवार उसकी जानकारी देता तो उसके आपराधिक रिकॉर्ड पहले ही पता चल जाते। पुलिस कमिशनर ने कहा कि अभी टीम को 30 हजार रुपए का इनाम दिया जा रहा है। बाकी 20 हजार रुपए का ईनाम डीजीपी कार्यालय से दिलाने के लिए पत्राचार किया जाएगा।

यह थी वह घटना जिसके कारण दो जिलों की पुलिस परेशान हुई

Bhopal Robbery News
चूना भट्टी थाना, जिला भोपाल— फाइल फोटो

चूना भट्टी (Chunabhatti) थाना क्षेत्र स्थित बी—सेक्टर में रहने वाले ज्ञानेन्द्र सिंह परिहार (Gyanendra Singh Parihar) पिता राजमल परिहार उम्र 59 साल के बंगले में आधा दर्जन हथियार से लैस डकैतों ने धावा बोला था। हमले में जख्मी और बंगले में काम करने वाले नौकर धर्मेन्द्र परिहार (Dharmendra Parihar) पिता जयपाल सिंह परिहार उम्र 48 साल ने रिपोर्ट दर्ज कराई। धर्मेद्र परिहार ने बताया कि वह पत्नि सुमन परिहार (Suman Parihar) के साथ ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह परिहार के बंगले में  काम करता है। डकैती की वारदात 8 अप्रैल की रात लगभग साढ़े नौ बजे हुई थी। उस वक्त ज्ञानेन्द्र सिंह परिहार बेटी प्रियंल सिंह (Priyal Singh) का बर्थडे मनाने होटल में गए थे। उनके साथ पत्नि सविता सिंह और दूसरी बेटी डॉ अंशुल (Dr Anshul) भी थी। ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह परिहार के जाते ही करीब आधा घंटा बाद धावा बोला गया। हमलावरों ने धमेंद्र सिंह परिहार और उसकी पत्नी सुमन परिहार को चाकू दिखाकर मारपीट की जाने लगी। तीन लोग घर में घुसकर लूटपाट करने लगे। दोनों से आरोपियों ने मोबाइल भी छीन लिया। आरोपी सभी कमरों में जा—जाकर तलाशी लेने लगे। सभी बदमाशों ने नकाब पहन रखे थे। विरोध करने पर सिर में हथौड़ी और हाथ में चाकू मारा गया। जिसमें समुन परिवार जख्मी हो गई। बाहर जाते समय आरोपी सभी को कमरों में अलग—अलग बंद करके भागे थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Vehicle Theft: दो वाहन चोरों से 6 चोरी की बाइक बरामद

ऐसे जुड़ते चले गए तार

आरोपी जब भाग रहे थे तब बाइक की आवाज आई थी। चूना भट्टी थाना पुलिस ने अस्पताल में जाकर जीरो पर प्रकरण दर्ज किया। जिसके बाद 87/2024 धारा 397 डकैती (Bhopal Robbery News) का मामला दर्ज हुआ। पुलिस ने छानबीन के लिए पांच टीमों का गठन करके तलाशी अभियान चलाया। जिसमें रायसेन पुलिस की भी मदद ली गई। आरोपी वारदात के बाद ज्ञानेन्द्र सिंह परिहार के कमरे से 50 लाख रूपया लेकर भागे थे। इसके अलावा सोने—चांदी और डायमंड के गहने भी नहीं मिले। सभी कर्मचारियों से पूछताछ की गई तो विधि विरोधी बालक और ड्रायवर लक्ष्मण सिंह कीर पर पुलिस को शक गया। लक्ष्मण सिंह कीर की जानकारी जुटाई तो पता चला कि वह आगजनी के मामले में जेल जा चुका है। उसके खिलाफ मंडीदीप (Mandideep) के थाने में भी प्रकरण दर्ज है। उससे जब सख्ती बरती गई तो उसने पूरा राज खोल दिया। पुलिस को संतोष कुमार जांगड़े (Santosh Kumar Jagde) के घर से भारी मात्रा में लूटी गई नकद राशि मिली। मिसरोद थाना पुलिस ने अमित राठौर को दबोचा। इस वारदात में कई अन्य आरोपी फरार है। धरपकड़ में डीसीपी जोन-04 सुदंर सिंह कनेश और डीसीपी क्राइम अखिल पटेल के नेतृत्व में यह अभियान चलाया गया था। थाना प्रभारी चूनाभट्टी भूपेन्द्र कौर संन्धू,(TI Bhupendra Kaur Sandhu)  थाना प्रभारी शाहपुरा एसके शेखावत, थाना प्रभारी मिसरोद मनीषराज भदौरिया, थाना प्रभारी कोलार आशुतोष उपाध्याय, भोपाल क्राइंम ब्रांच के उनि सूरज रंधावा एवं सहयोगी स्टॉफ ने सराहयनीय भूमिका निभाई।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal Robbery News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Fraud News: मुम्बई के ऑटो डीलर के खिलाफ गबन का मामला दर्ज 
Don`t copy text!