JK Hospital Update News: आईटी मैनेजर को लग गई पुलिस की भनक

Share

JK Hospital Update News: आधी रात को पुलिस को चकमा देेकर भागा, अदालत में लगाई अग्रिम बैल की अर्जी

JK Hospital Update News
जेके अस्पताल का आईटी मैनेजर आकाश दुबे जो अभी भी फरार चल रहा है

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की ताजा न्यूज जेके अस्पताल (JK Hospital Update News) की मिल रही है। यहां अस्पताल का आईटी मैनेजर आकाश दुबे पुलिस को चकमा देने में कामयाब रहा। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की एक टीम ने मंगलवार—बुधवार की दरमियानी रात लगभग तीन बजे एक जगह दबिश दी थी। पुलिस की दबिश की भनक उसको पहले ही लग गई थी। वह वहां से भागने में कामयाब रहा।

अर्जी के बाद मिला सुराग

पुलिस सूत्रों के अनुसार आकाश दुबे (Akash Dubey) ने जिला अदालत में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी लगाई है। जिसके बाद पुलिस को मुखबिरों से उसके एक संभावित ठिकाने की जानकारी लगी। इस जानकारी पर रणनीति बनाकर पुलिस दबिश देती। उससे पहले यह जानकारी पुलिस तक पहुंच गई है उसकी भनक उसको लग गई। वह उस जगह से चकमा देकर भागने में कामयाब रहा। इधर, पुलिस की एक दूसरी टीम आरोपी आकाश दुबे की अग्रिम जमानत अर्जी पर विरोध करने की तैयारी कर रही है। इसके लिए जिला अभियोजन अधिकारियों की मदद ली गई है। उल्लेखनीय है कि आकाश दुबे ने दो दिन पहले भी अपना सोशल अकाउंट बंद कर दिया था। उसकी आईडी में जाकर कई लोग अभद्र भाषा में उसको गालियां दे रहे थे।

यह भी पढ़ें: हेलीकॉप्टर वाला इंजेक्शन जिसको देखने मंत्री, कमिश्नर, कलेक्टर, डीआईजी सभी गए, आज भी वह पहेली है आखिर गया कहां

क्या है मामला

JK Hospital Latest News
यह है वह इंजेक्शन जिसको आकाश दुबे ने दिए थे

कोलार थाना पुलिस ने 13 मई को सिग्नेचर 99 कॉलोनी के पास से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया था। आरोपियों में आकर्ष सक्सेना (Akarsh Saxena), दिलप्रीत सलूजा और उसका चचेरा भाई अंकित सलूजा (Ankit Saluja) थे। आकर्ष सक्सेना होम्योपैथिक की क्लीनिक चलाता है। तीनों ने बताया था कि आरोपियों ने आकाश दुबे से करीब एक महीने के भीतर में 20—22 इंजेक्शन रेमडेसिविर के खरीदे थे। इस मामले में एसपी साई कृष्णा थोटा ने अस्पताल से इंजेक्शन के रिकॉर्ड मांगे थे। यह रिकॉर्ड भी अस्पताल ने अब तक पुलिस को नहीं दिए हैं।

यह भी पढ़ें:   MP News: ट्रेन में हत्या करने वाले आरोपी ने फांसी लगाई

जेके अस्पताल पर मेहरबानी

JK Hospital Update News
क्राइम ब्रांच थाना— फाइल फोटो

जेके अस्पताल एक महीने से सुर्खियों में है। यहां की एक नर्स शालिनी वर्मा (Shalini Verma), उसके प्रेमी झलकन सिंह मीणा (Jhalkan Singh Meena) को कोलार पुलिस ने ही दबोचा था। यह दोनों भी रेमडेसिविर इंजेक्शन बेच रहे थे। जबकि आकर्ष दुबे को क्राइम ब्रांच के एसआई एमडी अहिरवार (SI MD Ahirwar) और हरिकिशन वर्मा (SI Harikishan Verma) ने भी पकड़ लिया था। लेकिन, दोनों ने ढ़ाई लाख रुपए लेकर उसको छोड़ दिया था। इन आरोपों की जांच अलग से की जा रही है। इन सबके बीच आकाश दुबे को जेके अस्पताल प्रबंधन बचाने का भरसक प्रयास कर रहा है। दरअसल, उसके पास अस्पताल से जुड़े कई राज है। वहीं पुलिस सूत्रों ने बताया कि इस केस में अस्पताल के दूसरे बड़े चेहरे भी बेनकाब होंगे।

Don`t copy text!