MP Honey Trap Case : पुलिस ने दायर की 400 पेज की चार्जशीट, दो आरोपी अब भी फरार

Share

रविवार को ही चार्जशीट लेकर कोर्ट पहुंच गई थी पुलिस, कोर्ट ने कहा था- इतनी जल्दी क्या है

MP Honey Trap Case
दाएं—बाएं श्वेता जैन के बीच में बैठी हुई बरखा सोनी भटनागर, जिन्हें ब्लैकमेलिंग के आरोप में पलासिया थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है

भोपाल। मध्यप्रदेश के सबसे चर्चित मामले हनीट्रेप केस (MP Honey Trap Case) में पुलिस ने चार्जशीट पेश कर दी है। सितंबर में सामने आए मामले में पुलिस ने 16 दिसंबर को इंदौर कोर्ट में 400 पेज की चार्जशीट दायर की। जेएफएमसी अमित कुमार गुप्ता की अदालत में आरोप पत्र पेश किया गया। 18-19 सितंबर को इंदौर पुलिस ने भोपाल में रैकेट चलाने के आरोप में आरती दयाल (Aarti Dayal 29), मोनिका यादव (Monika Yadav 18), श्वेता विजय जैन (Shweta Vijay Jain 39), श्वेता स्वप्निल जैन (Shweta Swapnil Jain 48), बरखा सोनी (Barkha Soni 34) और ओमप्रकाश कोरी (Omprakash Kori 45) के रूप में पांच महिलाओं और एक पुरुष को गिरफ्तार किया था। हनीट्रेप गैंग के खिलाफ ब्लैकमेलिंग की पहली शिकायत इंदौर नगर निगम के सिटी इंजीनियर हरभजन सिंह (City Engineer Harbhajan Singh) ने पलासिया थाने में दर्ज कराई थी। शिकायत के मुताबिक आरोपियों ने आपत्तिजनक वीडियो वायरल न करने की एवज में हरभजन सिंह से 3 करोड़ रुपए की मांग की थी। जिसके बाद इंदौर पुलिस ने गैंग का भंडाफोड़ किया और मामला हाईप्रोफाइल (High Profile Case) बनता चला गया। हनीट्रेप केस के आरोपियों के खिलाफ धारा 370 (मानव तस्करी) और 385 (ब्लैकमेलिंग) के तहत केस दर्ज किया गया था। मामले में दो अन्य आरोपी रूपा अहिरवार (Roopa Ahirwar) और अभिषेक अब भी फरार है। पुलिस रविवार को ही चार्जशीट पेश करना चाहती थी। लेकिन कोर्ट ने यह कहते हुए इनकार कर दिया था कि इतनी जल्दी क्या है। बता दें कि पुलिस को चार्जशीट पेश करने के लिए 90 दिन का समय मिलता है।

यह भी पढ़ें:   MP Honey Trap Case: नेताओं और अफसरों को ब्लैकमेल करले वाली 5 युवतियों को भेजा जेल

हाल ही में हनीट्रेप से जुड़ी सामग्री वायरल करने के बाद इंदौर के ही चर्चित अखबार के मालिक जीतू सोनी (Jeetu Soni) टारगेट पर है। सोनी के खिलाफ 44 मामले दर्ज किए गए है। प्रशासन ने जीतू के कई प्रतिष्ठान और घरों को जमीदोंज कर दिया है। सोनी ने हनीट्रेप से जुड़ा एक वीडियो और ऑडियो वायरल किया था। जिसके बाद प्रशासन ने ताबड़तोड़ कार्रवाई की है।

क्या है मामला
इंदौर (Indore) जिले के प​लासिया थाने में 17 सितंबर को हरभजन (Harbhajan Singh) ने ब्लैकमेलिंग का मामला दर्ज कराया था। इसी मामले में श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन, आरती दयाल, मोनिका यादव, बरखा सोनी भटनागर और ओमप्रकाश कोरी को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने जब श्वेता को गिरफ्तार किया था उस वक्त ही 13 लाख रुपए बरामद कर चुकी थी। अब तक बरामद रकम करीब 1 करोड़ रुपए पहुंच चुकी है।

Don`t copy text!