MP Cop Gossip: अनुमति देकर दूसरों से जान रहे मैदानी सच्चाई

Share

MP Cop Gossip: रिश्वत मांग रहे पुलिसकर्मी के वायरल वीडियो में गुपचुप क्लीनचिट देकर बचाया

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस महकमा काफी बड़ा है। इसमें कई सच्चाई सामने आती है और बहुत कुछ दबा रह जाता है। ऐसे ही कुछ विषयों को लेकर हमारा नियमित कॉलम एमपी कॉप गॉसिप (MP Cop Gossip) है। इसके जरिए हम उन गतिविधियों पर नजर रखते हैं जो जनता से छुपाई जाती है। हमारा मकसद किसी व्यक्ति को छोटा—बड़ा नहीं दिखाना होता है। हमारा उद्देश्य उसके साइड इफेक्ट बताना ज्यादा होता है।

नई व्यवस्था को नहीं समझे अभी भी अफसर

भोपाल शहर में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू हो गई है। इसके तहत अलग—अलग काम के लिए आठ डीसीपी बनाए गए हैं। इसमें से ही एक काम धरना—प्रदर्शन की अनुमति देने से भी जुड़ा है। जिस शाखा से इस बात की अनुमति दी जाती है वह शाखा ही थानों से अनुमतियों की इन दिनों रिपोर्ट मांग रहा है। इस कारण थानों में इसके लिए अतिरिक्त बोझ मैदनी कर्मचारियों को झेलना पड़ रहा है। भीतर की खबर यह है कि शाखा तो खोल दी गई लेकिन उसके लिए पर्याप्त स्टाफ नहीं हैं।

किसने दी क्लीनचिट, होनी चाहिए जांच

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

एक सिपाही का सोशल मीडिया में वीडियो वायरल हुआ था। वह बाइक में बैठकर एक महिला से उसके पति को बचाने के लिए पैसे मांग रहा था। इसमें वह बकायदा कबूल रहा था कि रकम दूसरों में भी बांटी जाती है। इस मामले ने तूल भी पकड़ा था। ​जिसकी जांच भी की गई थी। खबर है कि अब उस सिपाही को बहाल कर दिया गया है। जबकि भौतिक साक्ष्य और वीडियो सिपाही के खिलाफ थे। यह सिपाही एक अत्याधुनिक बने स्टेशन के थाने में इन दिनों तैनात भी है। यहां बैठकर वे अभी भी ऐश ही कर रहे हैं। इसके अलावा उनका उस थाने में अभी भी हस्तक्षेप है जहां से वे वीडियो वायरल होने के बाद हटाए गए थे। उनकी हरकतों से अफसर बेखबर है। जबकि उनके ही साथियों ने विवादित सिपाही की एक जानकारी वरिष्ठ अफसर से कुछ दिन पहले ही साझा की थी। उस मामले को भी दबाकर रखा गया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: महिला से मारपीट—छेड़छाड़

नेपाली लड़की की दीवानगी की कहानी पढ़िए जिसमें वह अपने दो मासूम बच्चों को छोड़कर भोपाल में लड़की से शादी करने शिमला से भागकर आई

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!