Bhopal TI Posting: डीजीपी के आदेश पर हटे टीआई पर अफसर मेहरबान

Share

Bhopal TI Posting: कोलार थाने से हटाए गए टीआई सुधीर अरजरिया की जगह हुई तैनाती

Bhopal TI Posting
                          सांकेतिक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कोलार इलाके में एक युवती के साथ हुई दरिंदगी के मामले में हटाए (Bhopal TI Posting) गए थाना प्रभारी सुधीर अरजरिया (TI Sudhir Arjaria) की कुर्सी पर दूसरे विवादित निरीक्षक को भेजा गया है। यह निरीक्षक चंद्रकांत पटेल (TI Chandra Kant Patel) बताए जा रहे हैं। जिनके खिलाफ डीजीपी ने जांच के आदेश दिए थे। जांच में वे दोषी पाए गए थे। इस कारण उन्हें थाने से भी हटाया गया था।

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस एसीपी की वर्दी वाली तस्वीर की कहानी जिसको भोपाल के लोग आसानी से भूल नहीं पाए 

अफसरों ने चुप्पी साधी

मामला पुलिस मुख्यालय में पुलिस महानिदेशक के आदेश पर हटाए गए निरीक्षक चंद्रकांत पटेल (Chandra Kant Patel) का है। इसलिए जिले के अफसरों ने बातचीत नहीं की। इस आदेश को विभागीय निर्णय बताकर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रहे हैं। पटेल को कुछ दिन पहले ही शाहपुरा थाने से हटाकर गौतम नगर थाने की कमान सौंपी गई थी। महिलाओं पर गलत एफआईआर करने के मामले में दोषी पाए जाने के बाद भी टीआई चंद्रकांत पटेल को कोलार थाने की कमान दी गई है। इसी तरह के मामले में एक सप्ताह पहले कोलार थाना प्रभारी सुधीर अरजरिया व पटेल पर कोई कार्रवाई नहीं करते हुए कोलार थाने का जिम्मा दिया गया है। जबकि चार दिन पहले ही पटेल को शाहपुरा थाने से गौतम नगर भेजा गया था।

लापरवाही बरतने के आरोप

चार दिन बाद ही उन्हें कोलार जैसे बड़े थाने की कमान देने से एक बार फिर चर्चा शुरू हो गई है। अब सवाल उठ रहे है कि आखिर इस थाने में महिलाओं के प्रति लापरवाही करने वाले टीआई को ही क्यों थाना प्रभारी बनाया गया? अखिरकार इसकी जरूरत या थी। हम बता दें कि कोलार पुलिस ने 16 जनवरी को एक छात्रा के साथ जानलेवा हमले और दुष्कर्म की कोशिश के मामले में लापरवाही दिखाकर उसमें मामूली धाराओं को लगा दिया गया था। आरोपी की गिरफ्तारी के एक माह पीडि़ता और उसकी मां ने सामने आकर कोलार थाना पुलिस पर इस पूरे मामले में लापरवाही बरतने के आरोप लगाकर सनसनी फैला दी थी। दरअसल उक्त थाना प्रभारी पर जिले के आला अफसरों की मेहरबानी बताई जाती है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Triple Talaq: एक ही थाने मेें दूसरी बार दर्ज हुआ मुकदमा

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में माफिया को दफनाने का दावा करने वाले मुख्यमंत्री को राजधानी के इन हालातों पर सवाल अफसरों से जरुर पूछना चाहिए 

इसलिए थाने में टिक नहीं पाते अफसर

महिला संबंधी अपराधों पर लापरवाही बरतने पर हटे अधिकांश थाना प्रभारी
कोलार थाने में अधिकांश थाना प्रभारी महिला संबंधी अपराधों में लापरवाही बरतने पर ही हटे है। बीते कुछ सालों में कोलार से हटने वाले थाना प्रभारियों में रवींद्र बोयट, अनिल वर्मा, अलीम खान, आशीष पंवार, अब्दुल रफीक खान, सुधेश तिवारी, अखिलेश मिश्रा व अनिल शुक्ला को लाइन हाजिर किया गया था। जबकि थानेदार गौरव बुंदेला को सस्पेंड किया था। करीब दो साल पहले टीआई सुनील शर्मा को चुनाव आयोग की अनुशंसा पर आरोपों के चलते तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया था। एक सप्ताह पहले टीआई सुधीर अरजरिया व एसआई श्वेता शर्मा को लाइन हाजिर किया गया है। बावजूद इसके एक बार फिर से महिला अपराध में लापरवाह टीआई पटेल को कमान सौंपना समझ से परे है।

डीजीपी के निर्देश पर शुरु हुई थी जांच

अरेरा कॉलोनी की महिलाओं ने शाहपुरा थाने में झूठी एफआइआर दर्ज कराने के मामले में डीजीपी विवेक जौहरी के पास शिकायत की थी। जिस पर डीजीपी ने पूर्व एडीजी उपेंद्र जैन को इस मामले में जांच कराने के निर्देश दिए थे। इसके बाद टीआई शाहपुरा की एएसपी जोन -2 ने जांच शुरू की थी। जांच में टीआई पटेल के बारे में पाया गया था कि उनके निर्देश पर ही दोनों महिलाओं और उनके दोस्तों पर आबकारी एट की गलत एफआईआर दर्ज की गई थी।

अधिकारियों को पूरी खबर फिर भी बनाया प्रभारी

आला अधिकारियों को 9-10 अगस्त 2020 को उस रात का पूरा घटनाक्रम पता है। जिसमें महिलाएं अपने पति दोस्त के घर के अंदर खाना खा रही थी और उन पर सडक़ पर हंगामा करने उल्लेख कर उनके खिलाफ आबकारी एक्ट का मामला दर्ज किया गया था। बाद में जांच में पुलिस की यह कार्रवाई गलत मिली। बावजूद इसके उन्हें कोलार थाना दिया गया। आला अधिकारियों के इस निर्णय पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Co-Operative Bank Scam: शैल कंपनियों को ब्याज का लालच मिलने का झांसा देकर बांट दिए 111 करोड़ रुपए
Don`t copy text!