Bhopal Rape Case: महिला अफसर थी नहीं इसलिए दूसरे थाने से आने तक किया इंतजार

Share

Bhopal Rape Case: एफआईआर दर्ज कराने के लिए बलात्कार पीड़िता को घंटों करना पड़ा इंतजार

Bhopal Rape Case
                              सांकेतिक चित्र

भोपाल। (Bhopal Crime News In Hindi) मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल को पुलिस विभाग के लिए आदर्श माना जाता है। यहां कई तरह के प्रयोगों की शुरुआत होती भी है। इसके परिणाम के बाद दूसरे शहरों में उसको लागू किया जाता है। लेकिन, पूरे प्रदेश में महिला अपराध बढ़ रहे (MP Crime News) है। इसमें कंट्रोल लग नहीं पा रहा। वहीं कंट्रोल लगाने वाली पुलिस विभाग के पास महिला जांच अफसरों की कमी भी है। यह रहस्य उदघाटन परवलिया सड़क में हुए एक बलात्कार ( Bhopal Rape Case) के मामले से उजागर हुआ है। यहां पीड़िता को एफआईआर (Rape FIR Parwalia) के लिए काफी इंतजार करना पड़ा। जांच अधिकारी को दूसरे थाने से बुलाया गया था।

होटल पर करता है काम

परवलिया थाना पुलिस ने बताया कि 25 वर्षीय महिला ने बुधवार रात 11 बजे ज्यादती का मुकदमा दर्ज कराया है। पीड़िता थाना क्षेत्र की रहने वाली है। शादी के बाद पति के साथ किराए के मकान में रहती है। पति होटल पर काम करता है। आरोपी उसके मोहल्ले में रहने वाला है। जिसे वह पहले से जानती है। पीड़िता के प्रति उसकी नीयत पहले से ही ठीक नहीं थी। बुधवार दोपहर पीड़िता का पति काम पर गया हुआ था। तभी मौका पाकर आरोपी कमरे में घुस गया।

मुंह दबाकर चुप कराया

पति के जाने के बाद वह घर में काम निपटा रही थी। तभी अचानक उसे किसी के घर में आने की आहट सुनाई दी। उसने जाकर देखा तो आरोपी उसके घर में खड़ा था। सामने देख पीड़िता की चीख निकल गई थी। आरोपी ने उसका मुंह दबा दिया और जान से मारने की धमकी दी। आरेापी ने उसके बाद बलात्कार (Bhopal Rape Case) किया। जाते—जाते आरोपी उसे धमकी दे गया था यह राज खुला तो वह उसको नहीं छोड़ेगा। शाम को पति के आने बाद उसने सारा घटनाक्रम बताया। इसके बाद मामला थाने पहुंचा। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ (धारा 452/376/506 घर में घुसना, बलात्कार और धमकी) का मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी पंक्चर की दुकान चलाता है।

यह पहला मामला नहीं

परवलिया सड़क थाने में महिला जांच अधिकारी की कमी है। इसलिए मुकदमा दर्ज करने के लिए निशातपुरा थाने से एसआई उर्मिला यादव (SI Urmila Yadav) को बुलाया गया। तब तक महिला को इंतजार करना पड़ा। यह पहला मौका नहीं है कि जब ऐसा हुआ हो। इससे पहले अशोका गार्डन थाने में भी बलात्कार की एफआईआर के लिए एमपी नगर थाने से महिला जांच अधिकारी को लाया गया था। वहीं एमपी नगर थाने में एक बार एफआईआर दर्ज करने के लिए गोविंदपुरा सीएसपी कार्यालय से महिला अफसर को बुलाना पड़ा था।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।
यह भी पढ़ें:   Bhopal Rape Case: शादी में हुई दोस्ती के बाद पार्क तक की शर्मसार कहानी
Don`t copy text!