Bhopal Loot: लिफ्ट लेकर लूटपाट करने वाले रैकेट का पर्दाफाश

Share

निजी कंपनी के प्रोजेक्ट हैड को लूटने के बाद कार से बांधकर भाग गए थे लुटेरे

Bhopal Loot
एसआर कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट हैड को लूटने वाले गिरफ्तार दो लुटेरे

भोपाल। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में सक्रिय लिफ्ट लेकर लूटपाट करने वाले गिरोह (Racket) का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने इस मामले में देवास (Dewas) पुलिस की मदद से दो लुटेरों (Robber) को दबोच लिया है। आरोपियों ने भोपाल की एक निजी कंपनी में तैनात प्रोजेक्ट हैड (Project Head) को लूट लिया था। उसको कार से उतारकर पेड़ से बांधकर कार लूट ले गए थे।

जानकारी के अनुसार डी सेक्टर बंजारी कोलार रोड निवासी रजनीश तिवारी (32) एसआर कंस्ट्रक्शन (SR Construction) कंपनी इंदौर (Indore) में प्रोजेक्ट हेड हैं। उनका कंपनी के काम से भोपाल आना-जाना लगा रहता है। गत 15 नवंबर की शाम को वह अपने दोस्त की कार से भोपाल से इंदौर जा रहे थे। शाम करीब सात बजे हलालपुरा बस स्टैंट पर उन्होंने पानी की बोतल खरीदी। इसी दौरान तीन लोगों ने एक व्यक्ति की पत्नी की तबियत गंभीर बताते हुए उनसे इंदौर तक लिफ्ट मांगी। रजनीश (Rajnish) ने उनकी मजबूरी को देखते हुए लिफ्ट दे दी। रात करीब साढ़े सात बजे भौंरी बायपास मार्ग पर उनकी कंपनी के टैंकर का ड्रायवर मिला, जिसे रजनीश ने रुपये और कागजात दिए, इसके बाद इंदौर की तरफ निकल गए। रात पौने आठ बजे फंदा टोल नाके पर पर्ची कटवाने के बाद वह करीब आधा किलोमीटर आगे पहुंचे, तभी लिफ्ट लेने वाले एक युवक ने उल्टी बहाने कार रुकवाई। कार रुकते ही तीनों बदमाशों ने हथियार निकाल लिए और रजनीश के ड्रायविंग सीट से उतारकर पीछे बिठा लिया, जबकि कार उनका एक साथी चलाने लगा। रास्ते में साथी बदमाशों ने उनके साथ मारपीट की और दो अंगूठियां, पर्स, दो मोबाइल फोन समेत अन्य सामान छीन लिया।
रात करीब एक बजे उनकी गाड़ी देवास स्थित क्षिप्रा पुल के पास पहुंची तो बदमाशों ने उन्हें कार से उतारकर दूसरी कार में बिठा दिया। इसके बाद रात दो से तीन बजे के सांवेर से करीब एक किलोमीटर पहले उन्हें डाटा केबल के सहारे पेड़ से बांध दिया और कार तथा पूरा सामान लेकर भाग निकले।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: कमीशन के विवाद पर हुई मारपीट

देवास पुलिस की मदद से दो बदमाश चढ़े पुलिस के हत्थे
घटना की सूचना मिलते ही कोहेफिजा पुलिस ने भोपाल-देवास मार्ग के सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकाले और एक टीम तत्काल ही देवास भेजी गई। देवास पुलिस की मदद से बदमाशों की तलाश शुरू हुई तो एक बैगर नंबर ब्रेजा कार पुलिस को दिखी। पुलिस ने उक्त कार को चैक किया तो वह रजनीश तिवारी की निकाली। ड्रायवर धर्मेंद्र पटेल (22) से पूछताछ करने पर उसने अपने साथियों लीलाधर मालवीय, शशिकांत पटेल और भोला कुमावत के साथ मिलकर उक्त वारदात को अंजाम देना स्वीकार कर लिया। बदमाशों द्वारा वारदात में प्रयुक्त अल्टो कार लीलाधर पटेल की बताई गई है। पुलिस ने धर्मेंद्र पटेल और लीलाधर पटेल को गिरफ्तार कर लूटी गई ब्रेजा कार तथा सामान और वारदात में प्रयुक्त कार जब्त कर ली। इस वारदात में शामिल रहे दो अन्य आरोपियों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

Don`t copy text!