Covid Effect: मोदी जी आप तक बात पहुंचाने की एक नागरिक ने अपील की है

महामारी से निपटने 21 दिन के लॉक डाउन के दौरान मध्य प्रदेश में फंसे एक ट्रक ड्रायवर की आप बीती

MP Covid Effect
जंगल में फसा ट्रक ड्राइवर

भोपाल। (Covid Effect) देश वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Corona Virus) से जूझ रहा है। इससे निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने मंगलवार—बुधवार की दरमियानी रात 12 बजे से 21 दिनों के लिए लॉक डाउन (India Lock Down) कर दिया है। इस कारण देश भर से कई तरह के समाचार सामने आ रहे हैं। यह समाचार भ्रम फैलाकर फंसाने, सामान दोगुनी कीमत में बेचने से लेकर तमाम हैं। इसी बीच एक ट्रक ड्रायवर ने भी मदद मांगी। उसने www.thecrimeinfo.com (द क्राइम इंफो डॉट कॉम) के ब्यूरोचीफ के मोबाइल पर संपर्क किया और मदद मांगी। उसे हर संभव मदद दिलाने के लिए जिम्मेदार अफसरों के नंबर मुहैया कराए गए। लेकिन, नतीजा सिफर ही निकला। इसके बाद ट्रक ड्रायवर ने मांग की है कि वह यह बात देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तक उसकी बात पहुंचाने में मदद करे। ट्रक ड्रायवर राजस्थान (Rajasthan) का है जो हैदराबाद (Hyderabad) होते हुए रायसेन (Raisen) जिले के सिलवानी में स्थित जंगलों में फंसा है। लोग उसे शक की नजर से देख रहे हैं। कहीं वह कोरोना वायरस (Corona Virus Effect) का शिकार तो नहीं। इसलिए हर कोई उसकी खुलकर कोई मदद भी नहीं कर रहा।

इस ट्रक ड्रायवर का नाम गोपाल लाल वैष्णव (Gopal Lal Vaishnav) है। वह अजमेर (Ajmer) जिले के मसूदा तहसील का रहने वाला है। ट्रक ड्राइवर गोपाल लाल वैष्णव ने फोन करके द क्राइम इंफो डॉट कॉम से भी मदद मांगी थी। उसका कहना था कि वह हैदराबाद से माल लेकर रायसेन आया था। यहां उसको सिलवानी में पटेल वेयर हाउस में माल उतारना था। लेकिन, वह माल नहीं उतार सका। अब उसके सामने भोजन से लेकर परिवार का संकट गहरा गया है। वैष्णव जनता कर्फ्यू वाले दिन से ही फंसा हुआ है। चार दिन वह जंगल में बीता चुका है। उससे बातचीत करने वाला कोई भी व्यक्ति नहीं है। मोबाइल भी चार्ज वह ग्रामीणों की मदद से कर पा रहा है। वह चाहता है कि पुलिस उसको अजमेर जाने की अनुमति प्रदान कर दे। उसको रायसेन एसपी और कंट्रोल रुम का नंबर उपलब्ध कराया गया। लेकिन, उसको पुलिस विभाग की तरफ से कोई सहायता नहीं मिली। पुलिस के अधिकारी कोरोना को लेकर अपनी व्यस्तता बताकर थोड़ी देर बाद फोन करने का कहकर उसको दिनभर लटकाए रहे। उसकी समस्या का दोपहर तीन बजे तक रायसेन पुलिस ने समाधान नहीं किया। ट्रक ड्रायवर का कहना है कि वह जहां ठहरा हुआ है वहां जंगली इलाका है। उसके पास भोजन की भी व्यवस्था नहीं हैं। इस बीच उसे परिवार की भी चिंता सता रही है। उसको लगता है कि जैसा उसके साथ हो रहा है कहीं वैसे हालात उसके घर पर न बन गए हो।

यह भी पढ़ें:   Gwalior News: नर्स ने घंटी नहीं सुनी, अधीक्षक ने थमाया नोटिस

वैषणव ने कहा कि वह मेरी बात देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राजस्थान और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री क्रमश: अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) और शिवराज सिंह चौहान (Shiv Raj Singh Chouhan) तक पहुंचा दे। उसका कहना है कि वह लोगों को स्पर्श नहीं करेगा। वह ट्रक चलाते हुए सीधे अजमेर जाना चाहता है। उसको लगता है कि 21 दिनों तक उसके सामने कई संकट खड़े हो जाएंगे। जैसे हालात है उसमें प्रशासन और पुलिस का रवैया संतोषजनक उसको नहीं लगा। उसने बताया कि वह एसपी से लेकर टीआई तक सबसे मदद मांग चुका है। अब तक वह ग्रामीणों के भरोसे है जो उसको वैश्विक महामारी में शक की नजर से ही देख रहे हैं।

अपील

देश वैश्विक महामारी से गुजर रहा है। हम भी समाज हित में स्पॉट रिपोर्टिंग करने से बच रहे हैं। इसलिए समाज और लोगों से अपील करते हैं कि यदि उनके पास भ्रष्टाचार, कालाबाजारी या जिम्मेदार अफसरों की तरफ से लापरवाही की कोई जानकारी या सूचना हैं तो वह मुहैया कराए। www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   करोड़पति समझ इंकम टैक्स ने भेज दिया नोटिस

Don`t copy text!