Bhopal News: पीयूसी सर्टि​फिकेट बनाने को लेकर मारपीट

Share

Bhopal News: पेट्रोल पंप के नजदीक अलग—अलग जगहों पर चलाते हैं सेंटर, पुलिस ने दर्ज किया मारपीट का काउंटर केस

Bhopal News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। वाहनों से निकलने वाले धुंए के प्रदूषण को मापने वाले दो सेंटर संचालकों के बीच मारपीट हो गई। दोनों अलग—अलग जगहों पर सेंटर चलाते हैं। यह घटना भोपाल (Bhopal News) शहर के कोहेफिजा थाना क्षेत्र की है। विवाद की शुरुआत मुफ्त में सर्टिफिकेट जारी करने को लेकर हुई थी। पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ मारपीट का काउंटर केस दर्ज किया है।

यह कहने पर दोनों गुटों के बीच हुआ था विवाद

कोहेफिजा (Kohefiza) थाना पुलिस के अनुसार पहले पक्ष से हेमंत राजपाल (Hemant Rajpal) पिता मोतीलाल राजपाल उम्र 23 साल ने प्रकरण 05/24 दर्ज कराया है। जिसमें आरोपी शिवम, अभिषेक और जगदीश है। हेमंत राजपाल मूलत: दमोह का रहने वाला है। यहां लालघाटी (Lalghati) के नजदीक पीयूसी सेंटर (PUC Center) चलाता है। मारपीट की यह वारदात 1 जनवरी की रात लगभग साढ़े ग्यारह बजे हुई थी। वहीं दूसरे पक्ष की तरफ से शिवम जडिया (Shivam Jadiya) पिता देवीदयाल जडिया उम्र 28 साल ने मुकदमा 06/24 दर्ज कराया। वह निशातपुरा थाना क्षेत्र के करोद स्थित न्यू शांति नगर (New Shanti Nagar) में रहता है। शिवम जडिया करोंद के नजदीक एचपी पेट्रोल पंप (HP Petrol Pump) के पास पीयूसी सेंटर चलाता है। उसने हेमंत राजपाल, निक्की और बाबू यादव के खिलाफ प्रकरण दर्ज कराया है। उसको पाईप से आरोपियों ने पीट दिया था। हेमंत राजपाल का दावा है कि शिवम जडिया मुफ्त में पीयूसी सर्टिफिकेट बनाने के लिए बोल रहा था। ऐसा करने से मना किया तो वह गाली—गलौज करने के अलावा मारपीट करने लगा था।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   MP News : 10 वीं के छात्र ने की आत्महत्या, फीस के लिए दवाब बना रहा था स्कूल प्रबंधन
Don`t copy text!