Economic Crisis Effect: भेल शिक्षा मंडल के स्कूल वाले व्हाट्स एप ग्रुप में मैसेज डालकर पूरे परिवार ने जहर खाया

Share

Economic Crisis Effect: घर की किस्त, उधारी की रकम को लेकर चल रहे थे पांच लोग परेशान, रिश्तेदारों और सहेलियों को भेजा सुसाइड करने वाला संदेश, मां—बेटी संदेह के घेरे में आई

Economic Crisis Effect
ग्राफिक डिजाईन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के पिपलानी इलाके से एक सनसनीखेज वारदात सामने आ रही है। यहां एक ही परिवार के पांच लोगों ने जहर खा लिया है। जहर खाने वालों में पति—पत्नी, उनकी दो बेटियां और बूढ़ी मां है। इस घटना में एक किशोरी की मौत हो गई है। वहीं वृद्धा समेत दो लोग जीवन और मौत से संघर्ष कर रहे हैं। प्रा​थमिक जांच में आर्थिक तंगी से परेशान (Economic Crisis Effect) होने की जानकारी सामने आ रही है। इसमें मां—बेटी संदेही है जिनके संबंध में पूछताछ की जा रही है।

स्कूल टीचर को भी भेजा था संदेश

पिपलानी थाना पुलिस के अनुसार यह सनसनीखेज वारदात आनंद नगर स्थित अशोक विहार कॉलोनी (Ashok Vihar Colony News) की है। पुलिस को घटना की सूचना परिजनों और दोस्तों ने दी थी। जहर खाने वाले परिवार को गायत्री अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। जिन्होंने जहर खाया उनमें 48 वर्षीय संजीव जोशी, पत्नी 42 वर्षीय अर्चना जोशी, संजीव जोशी की 70 वर्षीय मां नंदनी जोशी (Nandani Joshi), बेटी 21 वर्षीय ग्रीष्मा जोशी और 16 वर्षीय पूर्वी जोशी है। इस घटना में पूर्वी जोशी (Purvi Joshi) की मौत हो गई है। संजीव जोशी ऑटो पार्टस की दुकान में काम करते हैं। पत्नी नंदनी जोशी घर में किराना दुकान चलाती थी। हालांकि उसे आर्थिक कारणों से बंद करना पड़ा था। परिवार ने आत्महत्या से पहले कई व्हाट्स ग्रुप में सुसाइड करने की जानकारी दी थी। जिसके बाद डायल—100 को कई कॉल जाने लगे थे। इसलिए पुलिस के अफसर तुरंत मौके पर पहुंच गए।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: प्लॉट और मकान के लिए मांग रहे थे दो लाख रुपए

यह थी असली वजह

Economic Crisis Effect
थाना पिपलानी, जिला भोपाल— फाइल फोटो

थाना प्रभारी अजय नायर (TI Ajay Nayar) ने बताया कि परिवार की तरफ से लिखा गया एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। जिसमें बताया गया है कि उनका घर लोन पर चल रहा है। जिसकी ईएमआई वे नहीं भर पा रहे थे। बड़ी बेटी ग्रीष्मा जोशी (Grishma Joshi) एलएनसीटी कॉलेज में पढ़ती है। जबकि छोटी बेटी पूर्वी जोशी विक्रम स्कूल में कक्षा दसवीं में पढ़ती थी। इसलिए परिवार ने पड़ोस में रहने वाले बबली (Babli) नाम की महिला से अर्चना जोशी ने पैसा उधार लिया था। यह रकम तीन लाख से अधिक की थी। इस रकम को भी परिवार चुका नहीं पा रहा था। इसलिए बबली और उसकी बेटी रानी (Rani) का नाम संदेहियों के दायरे में हैं। पिपलानी पुलिस मर्ग 64/21 दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। पुलिस को मौत की सूचना शुक्रवार सुबह लगभग आठ बजे मिली थी।

शेयर्ड सायकोटिक डिस ऑर्डर के शिकार आप तो नहीं!

Economic Crisis Effect
डॉक्टर मनीष बोरासी

चुनौतियों से संघर्ष की बजाय आत्महत्या कोई अच्छा कदम नहीं है। यह एक गंभीर बीमारी होती है। इन लक्षणों को आसानी से पहचाना जा सकता है। उससे पहले बीमारी की बारीकी को जान ले। यह जानकारी देते हुए मनोचिकित्सक डॉक्टर मनीष बोरासी (Dr Manish Borasi) ने बताया इसे शेयर्ड सायकोटिक डिस ऑर्डर कहते हैं। इसका दूसरा नाम इंड्यूज डिवीजनल ऑर्डर है। इसमें वह व्यक्ति जो घर या सारे बड़े फैसले लेता हैं ग्रसित होता है। ग्रसित व्यक्ति (Economic Crisis Effect) में नकारात्मक के भाव पनपते हैं और वह उसे दूसरों को फॉरवर्ड कर देता है। ऐसे व्यक्ति को पहचानना काफी आसान होता है। यदि व्यक्ति पहले के आचरण से विपरीत व्यवहार करें वह इस रोग का शिकार होता है। चिड़चिड़ापन, अकेले में बातचीत, कम बोलना इसके लक्षण है। ऐसे व्यक्ति को तुरंत मनोचिकित्सक की सेवाएं लेना चाहिए।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Fraud Case: अवैध तरीके से प्लॉट काटकर बेचने वाले बिल्डरों के खिलाफ मुकदमे दर्ज

घर के जानवरों को मारकर ली थी सैल्फी

Economic Crisis Effect
कर्जदारों से तंग आकर आत्महत्या करने जैसा कदम उठाने वाला यह परिवार जिसने सैल्फी ली थी। इसी तस्वीर के साथ वीडियो भी वायरल की थी।

अस्पताल में इलाज के दौरान नंदनी जोशी ने भी दम तोड़ दिया। इस हृदय विदारक घटना के बाद आत्महत्या से पहले की वीडियो और फोटो भी वायरल होने लगे। इसमें परिवार ने दो पालतू कुत्तों और सफेद चूहे को जहर देकर मारने की वीडियो बनाई। घर की दीवार पर कई जगह सुसाइड नोट लिखा था। अंग्रेजी में वी वांट जस्टिस लिखा हुआ था। पुलिस ने मर्ग 64—65/21 की जांच के बाद 1201/21 धारा 294/306/34/3/4 (गाली—गलौज, आत्महत्या के लिए उकसाना, एक से अधिक आरोपी और कर्ज अधिनियम) के तहत 26—27 नवंबर की दरमियानी रात लगभग सवा बारह बजे दर्ज किया। यह प्रकरण संजीव जोशी के बयानों पर दर्ज किया गया। इसमें आरोपी बबली दुबे (Babli Dubey), रानी, उर्मिला और बबली गोड (Babli Gaud) को बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: भोपाल के इस बिल्डर पर सिस्टम का ‘रियायती सैल्यूट’, परेशान हो रहे 100 से अधिक परिवार

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Economic Crisis Effect
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!