Coronavirus Effect : सरकारी आदेश न मानने पर मस्जिद कमेटी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

धारा 144 का उल्लंघन करने पर मामला हुआ दर्ज

सांकेतिक चित्र

मुंबई। Coronavirus Effect देशभर में कोरोना वायरस की वजह से खड़े हुए संकट से निपटने के लिए प्रशासन कड़े कदम उठा रहा है। ज्यादातर इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है। देश में सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में सामने आए है, लिहाजा मुंबई समेत तमाम जिलों में लॉकडाउन जारी है। ऐसी स्थिति में भी नियम तोड़कर मस्जिद में नमाज पढ़े जाने पर प्रशासन ने कड़ा कदम उठाया है। मुंबई में एक मस्जिद कमेटी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक मस्जिद में करीब 150 लोग नमाज पढ़ने के लिए एकत्रित हुए थे। तमाम सरकारी आदेशों का उल्लंघन कर लोग नमाज अदा करने पहुंचे थे। जेजे थाना पुलिस ने सुन्नी शफी मस्जिद के ट्रस्टियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने बताया कि सोमवार दोपहर को पुलिस को सूचना मिली कि कोरोनोवायरस प्रकोप के मद्देनजर सीआरपीसी की धारा 144 प्रतिबंध सभा के तहत जारी आदेशों के बावजूद 100-150 लोग मस्जिद के अंदर नमाज अदा कर रहे हैं। जबकि आदेश सभी धार्मिक स्थलों पर भी लागू होता है।

सूचना मिलते ही सहायक पुलिस आयुक्त अविनाश धर्माधिकारी के नेतृत्व में एक टीम मस्जिद पहुंची और नमाज अदा कर रहे लोगों को घर जाने को कहा। बाद में, पुलिस ने मस्जिद के ट्रस्टियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की, जिसमें मजल बदवान कुनी भी शामिल है, उनके खिलाफ  आईपीसी की धारा 188, 269 के तहत मामला दर्ज किया गया है। धर्माधिकारी ने कहा कि प्राथमिकी दर्ज कर ली है, लेकिन अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। इस मामले की जांच जारी है।

यह भी पढ़ें:   हीरा कारोबारी ने बिल्डिंग के 15 वें माले से कूदकर दी जान

जामा मस्जिद 31 मार्च तक बंद

दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद कोरोना वायरस महामारी की वजह से नमाजियों के लिए 31 मार्च तक बंद रहेगी। जामा मस्जिद के इमाम सैयद अहमद बुखारी ने सोमवार को कहा कि बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए एहतियाती उपाय के तहत इस बाबत फैसला लिया गया है, क्योंकि विदेश से लौटने वाले कई लोग मस्जिद में नमाज़ अदा करने आते हैं। बुखारी ने कहा कि इस दौरान मस्जिद में अज़ान तो होगी लेकिन मस्जिद में लोगों को नमाज़ अदा करने की इजाजत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि मुगल बादशाह शाहजहां द्वारा बनवाई गई मस्जिद में रोजाना करीब दो हजार लोग नमाज पढ़ते हैं जबकि जुमे (शुक्रवार) को यह तादाद 10,000 के पार चली जाती है।

Don`t copy text!