Bhopal Kidnapping News: सिक्योरिटी एजेंसी के कर्मचारी को चार दिन बंधक बनाकर पीटा 

Share

Bhopal Kidnapping News: अवधपुरी से झांसा देकर सोनागिरी के मकान में ले गए, पत्नी को फोन लगाकर बोला पैसा ट्रांसफर करो नहीं तो किडनी बेच देंगे, दो थानों की पुलिस के चलाए अभियान के बाद सकुशल छुड़ाया, एमाजॉन कंपनी में काम करने वाले झारखंड़ के दो आरोपी हिरासत में लिए गए

Bhopal Kidnapping News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। सिक्योरिटी एजेंसी के एक कर्मचारी को अगवा कर लिया गया। उसे छोड़ने के एवज में उसकी पत्नी से एक लाख 45 हजार रुपए की रकम ट्रांसफर कराई गई। यह सनसनीखेज वारदात भोपाल (Bhopal Kidnapping News) शहर के पिपलानी थाना क्षेत्र की है। जिस व्यक्ति को अगवा किया गया उसकी गुमशुदगी पत्नी ने मिसरोद थाने में दर्ज कराई थी। मिसरोद और पिपलानी थाना पुलिस की संयुक्त कार्रवाई के बाद अगवा व्यक्ति को रिहा करा लिया गया है। मामला लेन—देन से छुड़ा है। पुलिस ने इस मामले में दो संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।

यह बोलकर दरवाजा खुलवाया गया

पिपलानी (Piplani) थाना पुलिस के अनुसार 5—6 अप्रैल की दरमियानी रात लगभग साढ़े तीन बजे प्रकरण 336/24 दर्ज किया गया। जिसमें धारा 343/384/323/294/506/34 —(एक दिन से अधिक बंधक रखना, ब्लैकमेलिंग, मारपीट, गाली—गलौज, धमकाना और एक से अधिक आरोपी— का प्रकरण) दर्ज किया गया। इस मामले में आरोपी विभूति कुमार और पीयूष कुमार है। यह मामला सबसे पहले मिसरोद पुलिस थाने पहुंचा था। यहां थाने में मिसरोद थाना स्थित शीतल हाईट्स (Sheetal Hights) में रहने वाली ज्योति तोमर (Jyoti Tomar) पति अनिल सिंह तोमर उम्र 26 साल ने गुमशुदगी की रिपोर्ट 30/24 दर्ज कराई थी। यह रिपोर्ट 5 अप्रैल की शाम लगभग पौने छह बजे दर्ज कराई गई। उसने बताया कि उसके पति 2 अप्रैल से लापता थे। जिनको वह अपने स्तर पर तलाश रही थी। इसके अलावा ज्योति तोमर ने बताया कि उसके पास एक नंबर से कॉल आया था। उसने कहा कि यदि 1 लाख 45 हजार रुपए नहीं दिए तो उसके पति को वे अगवा करके बिहार ले जाएंगे। वहां उसकी किडनी निकालकर बेच देंगे। भय में आई पत्नी ने रकम आन लाइन ट्रांसफर भी कर दी। इसके बाद वह थाने पहुंची थी। पुलिस ने मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर पिपलानी थाना क्षेत्र में स्थित सोनागिरी (Sonagiri) में दबिश दी। यहां रोहित जैन के मकान में दो संदेही विभूति कुमार (Vibhuti Kumar) और पीयूष कुमार (Piyush Kumar) मिले। कमरे में बंद अनिल सिंह तोमर उसी जगह पर बंधक थे। लेकिन, आरोपी दरवाजा नहीं खोल रहे थे। पुलिस ने छद्म नाम बोलकर दरवाजा खुलवाया था।

भाई ने उधार ली थी आरोपियों से रकम

अनिल सिंह तोमर (Anil Singh Tomar) ने बताया कि वे 2 अप्रैल को अवधपुरी स्थित कंचन नगर (Kanchan Nagar) गए हुए थे। वे वन डिफेंस सिक्योरिटी कंपनी (One Difense Security Company) में फील्ड आफिसर हैं। यहां से विभूति कुमार और पीयूष कुमार बातचीत के बहाने उसे सोनागिरी लेकर आए थे। जिसके बाद कमरे में बंद (Bhopal Kidnapping News) कर दिया और खाना भी नहीं देते थे। आरोपियों ने बताया कि उसके भाई निखिल सिंह तोमर (Nikhil Singh Tomar) ने एक लाख 45 हजार रुपए उधार लिए थे। निखिल सिंह तोमर इंदौर में रिलायंस कंपनी (Reliance Company) में जॉब करता है। उधार ली गई रकम वह चुका नहीं रहा था। इस कारण रकम देने के बाद ही उसके बड़े भाई को छोड़ा जाएगा। उसे बाथरुम करने के लिए एक डिब्बा भी दिया गया। उसके साथ कमरे में बंद करके काफी मारपीट भी की गई। मिसरोद पुलिस ने इन्हीं बयानों के आधार पर केस डायरी पिपलानी थाना पुलिस को भेजी। पुलिस को जांच में पता चला है कि आरोपी एमाजॉन कंपनी (Amazon Company) में जॉब करते हैं। रकम क्यों दी गई यह साफ नहीं हो सका है। पीड़िता ज्योति तोमर ने जिस खाते में रकम ट्रांसफर की वह विभूति कुमार का है। पुलिस उस खाते के बारे में भी जानकारी जुटा रही है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal Kidnapping News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: अड़ीबाज ने छुरा निकालकर मारा
Don`t copy text!