Corona Review Meeting: वैक्सीन की बर्बादी पर पीएम हुए नाराज

Share

Corona Review Meeting: जनता को भयभीत करने की बजाय राहत पहुंचाए

Prime Minister Narendra Modi
नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री, भारत सरकार (पीआईबी से साभार)- File Image

दिल्ली। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) बुधवार दोपहर देशभर के मुख्यमंत्रियों से कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ—साथ वैक्सीनेशन प्रोग्राम की समीक्षा बैठक (Corona Review Meeting) कर रहे थे। बैठक के बाद उन्होंने वैक्सीन की बर्बादी और उसकी एक्सपायरी को लेकर चिंता जताई। उन्होंने इसके लिए कारगर मैकेनिज्म बनाने की सलाह दी है। मोदी ने कहा है कि देश के नागरिकों से अपेक्षा से ज्यादा सहयोग मिला। इसलिए उन्हें भयभीत करने की बजाय राहुत पहुंचाने के उपाय निकाले जाए।

गांव में फैला तो संभलेगा नहीं

Corona Review Meeting
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगस्त 2020 में राज्यों के मुख्यमंत्री से कोविड महामारी को लेकर चर्चा करते हुए- File Image

मोदी ने मुख्यमंत्रियों से बातचीत के बाद कहा कि सरकारी मशीनरी को एक्टिव होने की जरुरत है। माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाना चाहिए। कंटेनमेंट और सर्विलांस को प्राथमिकता में लाना चाहिए। टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट को गंभीरता से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम एक साल से यह करते आ रहे हैं। कम से कम समय में ट्रैक करने की योजना बनाना चाहिए। कई राज्यों में रैपिड एंटीजन टेस्ट पर ज्यादा फोकस किया जा रहा है। केरल, तमिलनाडू, उत्तर प्रदेश में अच्छा काम हो रहा है। टीएल—2 और टीएल—3 शहरों को रोकथाम के उपाय सोचना चाहिए। गांव में यदि कोरोना फैला तो नियंत्रण करना चुनौती बन जाएगा।

प्लानिंग में सुधार की जरुरत

MP Corona News
कोरोना वायरस सांकेतिक चित्र

प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरे देश में यात्रा शुरु हो चुकी है। इसलिए सारे राज्यों को कांटेक्ट ट्रेसिंग के सिस्टम को बनाने की आवश्यकता है। विदेशी नागरिकों को भी ट्रैक करने की आवश्यकता है। वैक्सीन अभियान को लेकर कई मुख्यमंत्रियों ने अपनी राय रखी है। यह प्रभावी हथियार है वैक्सीनेशन की गति बढ़ा रहे हैं। मोदी ने सलाह दी है कि तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में वैक्सीन वैस्टेज को रोकना चाहिए। इसकी भी राज्यों को समीक्षा करना चाहिए। इस विषय पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि बर्बाद हो रही वैक्सीन से हम किसी के अधिकार से उसको वंचित कर रहे है। प्लानिंग की कमी में इसके लिए सुधार की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें:   Fake Currency : गुजरात में फलफूल रहा नकली नोट का कारोबार, सूरत के बाद अब वडोदरा में मिले

यह भी पढ़ें: दिल्ली के इस एसीपी की वर्दी वाली तस्वीर की कहानी जिसको भोपाल के लोग आसानी से भूल नहीं पाए 

मोदी ने यह दिया मंत्र

Careless Doctors MP
सांकेतिक चित्र

मोदी ने सारे राज्यों के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि दवाई और कढ़ाई भी जरुरी है। नए केस की पहचान करना चाहिए। वैक्सीनेशन सेंटर बढ़ाने की आवश्यकता है। कई इलाकों में सेंटर एक्टिव नहीं हैं। तकनीक की मदद से यह समझ में भी आ रहा है। इसलिए तकनीक से उसमें सुधार करने की आवश्यकता है। वैक्सीन हर रोज बन रही है। वैक्सीन की एक्सपायरी डेट पर ध्यान देना है। पहली खेप में आई वैक्सीन को इस्तेमाल करने पर प्राथमिकता रखनी है। प्रधानमंत्री को कई राज्यों ने सुझाव भी दिए। जिसको समझने के बाद उन्होंने कहा कि अस्पताल को लेकर जो सुझाव मिले हैं उसमें स्वास्थ्य मंत्रालय हल निकाल लेगा। जनता से काफी सहयोग मिला है। जागरुकता, विश्वास और सहयोग के चलते हमें कामयाबी मिली है।

Don`t copy text!