Bhopal News: शहर में चरमराती ट्रैफिक व्यवस्था की एक ओर कड़ी

Share

Bhopal News: तेज रफ्तार लो फ्लोर बस ने आगे चल रही कार को टक्कर मारी, दुर्घटनाग्रस्त कार उसके आगे चल रही दूसरी कार से जा टकराई

Bhopal News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। राजधानी में आम नागरिकों के लिए शुरु की गई सार्वजनिक परिवहन प्रणाली पूरी तरह से चरमरा गई हैं। भोपाल (Bhopal News) शहर में लो फ्लोर बसें बेतरतीब तरीके से चलती हैं। इन वाहनों से सैंकड़ों सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी है। जिसको रोकने में भोपाल नगर निगम भी नाकाम रहा है। ताजा मामला भोपाल शहर के ऐशबाग थाना क्षेत्र का है। यहां लो फ्लोर बस ने अपने आगे चल रही कार को टक्कर मारी। जिस कारण दुर्घटनाग्रस्त कार अपने आगे चल रही दूसरी कार से जा टकराई।

लाल बस ने कार में टक्कर मार दी

ऐशबाग (Aishbag) थाना पुलिस के अनुसार इस दुर्घटना में किसी तरह के जनहानि के समाचार नहीं हैं। हालांकि हादसे के कारण दो कार बुरी तरह से चकनाचूर हो गई है। पुलिस ने लो फ्लोर बस (Low Floor Bus) एमपी—04—टीए—4379 चालक के खिलाफ 170/24 धारा 279 (लापरवाही से वाहन चलाने का प्रकरण) दर्ज कर लिया है। दुर्घटना 09 अप्रैल की शाम लगभग सवा छह बजे हुई थी। थाने में शिकायत धर्मेंद्र सेन (Dharmendra Sen) ने दर्ज कराई है। वे ईट—भट्टे के कारोबारी है। उनकी कार (Car) एमपी—04—ईडी—4765 में दोस्त देवेंद्र सिंह (Devendra Singh) भी सवार थे। दोनों पिपलानी से प्रभात चौराहे की तरफ जा रहे थे। तभी मोना अस्पताल (Mona Hospital) के सामने पीछे से आई लाल बस ने कार में टक्कर मार दी। टक्कर लगने के बाद उनकी असंतुलित कार उनके आगे चल रही दूसरी कार एमपी—04—सीएम—7185 से टकरा गई। हादसे में दोनों कार के अगला और पिछला हिस्सा बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   TCI News Impact: एमपी में टी​बी की दवा को लेकर मानवाधिकार आयोग ने मांगा जवाब
Don`t copy text!