MP Cop Gossip: दतिया पुलिस का हैरान करने वाला कमाल 

Share

MP Cop Gossip: जब स्मृति चिन्ह बांट रहे थे तब एक अफसर ने थाना प्रभारी को कर दिया इस तरह का इशारा, मुखबिरी में कुछ नपे मगर डीसीपी और टीआई की भूमिका का होगा क्या

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस महकमा काफी बड़ा है। उसके भीतर ही भीतर बहुत कुछ चल रहा होता है। उसमें थानों में दर्ज रिकॉर्ड की खबरें तो आ जाती है। लेकिन, कुछ बातें दबी रह जाती है। ऐसे ही खबरों का नियमित कॉलम एमपी कॉप गॉसिप (MP Cop Gossip) है। हमारा मकसद थानों और अफसरों के कार्यालयों के भीतर चल रही गहमागहमी को बताना होता है। हम कतई व्यवस्था, व्यक्ति और पद की गरिमा को कम नहीं आंकते।

सिपाही ने तान दी बंदूक

बैतूल जिले में आरक्षक जगदीश कीर ने आम नागरिकों पर बंदूक तान दी। ऐसा वे सादी वर्दी में कर रहे थे। उनकी वीडियो भी बनी और वह सोशल मीडिया में वायरल हो गई। जिसके बाद बैतूल एसपी ने उसे सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए। आपको बता दें कि सिपाही पुलिस लाइन में थे। यह घटना थाना प्रभारी देवकरण डेहरिया के क्षेत्र में हुई थी। जिसके बाद वे काफी देर तक इस मामले को लेकर परेशान होते रहे।

डीसीपी और टीआई को कोसने वाली आडियो वायरल

यह घटना भोपाल शहर के पिपलानी थाना क्षेत्र की है। यहां तैनात कांस्टेबल अविनाश राय का एक आडियो वायरल हो गया। जिसमें वे जोन—2 में तैनात डीसीपी से लेकर थाना प्रभारी को जमकर कोस रहे थे। यह जानकारी डीसीपी तक पहुंची तो उन्होंने उसे निलंबित कर दिया। यह बातचीत कांस्टेबल एक शराब तस्कर से कर रहा था। अब इसमें सोचने वाली बात यह है कि आडियो वायरल किसने की। स्वभाविक है तस्कर ने ही उसे लीक किया होगा। मतलब कांस्टेबल को निलंबित करके आरोपों की सच्चाई का पता ही नहीं लगाया गया।

मोमेंटो ले लिया होता तो सुर्खियों में आते

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

पिछले दिनों परवलिया सड़क थाने को आईएसओ अवार्ड दिया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम रखा गया था। कार्यक्रम समापन के बाद थाने की तरफ से स्मृति चिन्ह भेंट किया जा रहा था। वहां भाजपा विधायक विष्णु खत्री (MP Cop Gossip) के अलावा कई अन्य भी थे। नेताओं को पुलिस अधिकारियों ने स्मृति चिन्ह के रुप में राम मंदिर की प्रतिकृति बांटी। जब यह चल रहा था तब एक अफसर ने थाने के एक अधिकारी को इशारा में कहा कि यह उन्हें नहीं मिलना चाहिए। फिर क्या वहां आए अफसरों को स्मृति स्वरुप अशोक स्तंभ वाले चिन्ह का मोमेंटो दिया गया। अफसर जानते थे कि वहां मीडिया मौजूद है। यदि ऐसा किया तो विभाग का पूर्व गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की दिलाई गई शपथ टूट जाती।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Property Fraud: एक ही फ्लैट दो लोगों को बेचा

मुखबिरों की फेहरिस्त बनेगी क्या

भोपाल क्राइम ब्रांच की टीम छोला मंदिर थाना क्षेत्र में नरेश मरघट के जुए के अड्डे पर दबिश देने पहुंची। वहां कार्रवाई होती उससे पहले सूचना लीक हो गई। डीसीपी क्राइम ब्रांच श्रृतकीर्ति सोमवंशी को संदेह हुआ। उन्होंने तफ्तीश कराई तो पता चला कि क्राइम ब्रांच में ही तैनात एएसआई विजयवरण यादव और कांस्टेबल सौरभ राजावत की जुए का अड्डा चलाने वाले नरेश मरघट से बातचीत हुई थी। इस आधार पर उन्होंने दोनों कर्मचारियों को निलंबित कर दिया। इधर, खबर मिल रही है कि नरेश मरघट की केवल क्राइम ब्रांच ही नहीं स्थानीय थानों के कई कर्मचारियों से भी बातचीत होती थी। अब उनके सभी कर्मचारियों के काले चिट्ठे उजागर होंगे या नहीं यह भविष्य में ही पता चलेगा।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!