MP Cop Gossip: सांसद के पूर्व प्रतिनिधि के भवन में हुई घटना को दबाया

Share

MP Cop Gossip: लिफ्ट गिरने में जख्मी हुए एक व्यक्ति को निजी अस्पताल ले जाया गया था, भवन मालिक ने पीड़ित परिवार को मुआवजा देकर उन्हें चुप कराया

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश पुलिस विभाग काफी बड़ा होता है। इसमें कई बातें दबी रह जाती है। ऐसी ही बातों का नियमित कॉलम एमपी कॉप गॉसिप (MP Cop Gossip) है। जिसमें हम वह बातें बताने का प्रयास करते हैं जो मीडिया में आने से रह गई। हमारा मकसद कतई नहीं कि संस्था, पद या व्यक्ति को कम—ज्यादा आंका जाए।

प्रायवेट अस्पताल के रिकॉर्ड खंगाले तो सामने आ जाएगा पूरा मामला

यह घटना भोपाल शहर के पुराने शहर में हुई। यहां लिफ्ट लगाई जा रही थी। तभी हादसे में एक व्यक्ति गंभीर रुप से जख्मी हो गया। उसे पुराने शहर में ही एक अस्पताल ले जाया गया। वहां से वह कहां गया आज तक किसी को नहीं पता। वहीं इस मामले में प्रकरण थाने भी नहीं पहुंचा। इसमें निजी अस्पताल ने बहुत ज्यादा भूमिका निभाई। खबर है कि जिस भवन में हादसा हुआ वह सांसद के पूर्व प्रतिनिधि की बिल्डिंग थी। इस प्रकरण के कागज यदि भविष्य में बाहर निकले तो कई लोग चपेट में आ सकते हैं। बहरहाल जब तक मामला दबा है तब तक सभी लोग राहत की सांसे ले रहे हैं। खबर यह भी है कि पीड़ित परिवार को आर्थिक सहयोग भी दिया गया है।

सिपाही ने हवलदार को पीटा

MP Cop Gossip
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

पुलिस लाइन में तैनात एक सिपाही ने हवलदार को पीट दिया। दरअसल, उसे अफसरों ने सस्पेंड कर दिया था। इस कारण सिपाही को लगता था कि उसकी मुखबिरी अधिकारियों से हवलदार ने की है। यह घटना गुना जिले की है। जिसमें आरक्षक मुलायम सिंह यादव के खिलाफ बकायदा प्रकरण भी दर्ज किया गया है। पीड़ित हवलदार नीरज दीक्षित है। जिसने थाने में प्रकरण दर्ज कराया है।

यह भी पढ़ें:   Bhopal News: अधेड़ के साथ गांव से तो शहर में आकर युवक के साथ भागी युवती

पीएम ने एमपी पुलिस की तारीफ की

पिछले दिनों मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषण दे रहे थे। वे एक यूनिवर्सिटी के भीतर हुए भ्रष्टाचार (MP Cop Gossip) के मामले को लेकर जानकारी दे रहे थे। इस मामले की जांच ईओडब्ल्यू में तैनात एक अफसर ने की थी। जिसकी शिकायत तीन व्हीसल ब्लोअर ने की थी। जांच अधिकारी ने पुराने सारे दस्तावेज खोदकर निकाले और इस प्रकरण से जुड़े सभी लोगों को सीखचों के पीछे पहुंचा दिया था। यह प्रकरण 2017 में हुआ था।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Cop Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!