MP Middle School Result: क्या सीएम राइज क्या प्रायवेट स्कूल, सबके एक जैसे रहे हाल

Share

MP Middle School Result: शिक्षा माफिया के आगे घुटने टेके, एमपी में स्कूल एजुकेशन की पोल खुली, पांचवीं और आठवीं के बच्चे अपने ही परिणाम को जानने के लिए घंटों रहे मरहूम, राज्य शिक्षा केंद्र की वेबसाइट का सर्वर रहा डाउन

MP Middle School Result
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश में शिक्षा व्यवस्था कितनी पटरी पर है यह सोमवार को उजागर हो गई। प्रदेश के शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार (Minister Inder Singh Parmar) ने दोपहर साढ़े बारह बजे धूमधाम के साथ पांचवीं और कक्षा आठवीं के परिणाम (MP Middle School Result) सार्वजनिक किए। लेकिन, यह परिणाम चार घंटे बाद भी वेबसाइट में बच्चे और उनके अभिभावक नहीं देख सके। दरअसल, जिस आनन—फानन में रिजल्ट घोषित किया गया उसके लिए एनआईसी तैयार ही नहीं था। इस अव्यवस्था को सुधारने की कोशिश भी की गई। हालांकि वह केवल प्रयास ही साबित हुए। बदहाल व्यवस्था के शिकार सिर्फ सरकारी नहीं निजी स्कूल के बच्चे भी हुए। कई स्कूल अपने बच्चों के परिणाम को जानने के लिए दिनभर राज्य शिक्षा केंद्र के चक्कर काटते रहे।

राज्य शिक्षा केंद्र ने चुप्पी साधी

जानकारी के अनुसार राज्य शिक्षा केंद्र (Rajya Shiksha Kendra) की वेबसाइट पर परिणाम जानने के लिए समग्र आईडी या फिर रोल नंबर डालने की व्यवस्था की थी। इसके बाद वेबसाइट पर कैप्चा भी दिया गया था। यह कैप्चा अधिकांश अभिभावकों को नहीं मिला। प्रयास करने पर वेबसाइट के हैंग होने की समस्या आम रही। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इसी साल सरकार ने पांचवीं और आठवीं कक्षा को बोर्ड पैटर्न पर शुरू किया। यह व्यवस्था लगभग तेरह साल बाद शुरू की गई है। जिसमें राज्य शिक्षा केंद्र की तरफ से 24,81,681 प्रवेश पत्र जारी हुए थे। इसमें परीक्षा परिणाम 22,46,288 छात्रों के जारी हुए। इनमें 80.34 पांचवीं कक्षा में बालक उत्तीर्ण हुए हैं। जबकि बालिकाओं का प्रतिशत 84.32 रहा। इसी तरह आठवीं कक्षा में 73.46 बालक और 78.86 बालिकाएं उत्तीर्ण हुई। इनमें से लगभग 60 फीसदी अपने परिणामों को जानने से वंचित रहे। इस देरी को लेकर राज्य शिक्षा केंद्र की तरफ से कोई सफाई नहीं दी गई है।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Middle School Result
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:   Pubg Game था बहाना, टारगेट पर थी नाबालिग की आबरु
Don`t copy text!