Bhopal News: डीजीपी ने एक दिन पहले दिया था यह आदेश

Share

Bhopal News: महिला संबंधित मामलों में थाना प्रभारी से लेकर बाकी अफसर कितने सतर्क यह सवाल—जवाब में सामने आया, एक—दूसरे पर टालते रहे मामला

Bhopal News
सांकेतिक ग्राफिक डिजाइन—टीसीआई

भोपाल। एमपी पुलिस के महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना एक दिन पहले मैदानी अफसरों को निर्देश दिए थे कि वे महिला संबंधित मामलों में गंभीरता बरतें। वे होने वाले चुनाव और त्यौहारों के मद्देनजर रेंज स्तर अफसरों के साथ बैठकर समीक्षा कर रहे थे। लेकिन, उनके आदेश कितनी संजीदगी से लिए जाते हैं वह एक मामले से सामने आ गया। घटना किसी देहात क्षेत्र या दूरस्थ अंचल की नहीं बल्कि राजधानी भोपाल (Bhopal News) शहर के हबीबगंज थाना क्षेत्र की है। मामला बलात्कार से जुड़ा है जिसकी केस डायरी छतरपुर से भोपाल आई थी।

यह बोलकर बचते रहे अफसर

पुलिस सूत्रों ने बताया कि घटना जनता क्वार्टर की है। इसलिए छतरपुर पुलिस ने केस डायरी वहां भेज दी। बलात्कार की घटना 20 जनवरी 2023 को हुई थी। जिसकी शिकायत 24 वर्षीय युवती ने दर्ज कराई है। वह छतरपुर की रहने वाली है। पीडिता भोपाल में पेपर देने आई थी। वह रिश्तदार के यहां ठहरी थी। तब उसके साथ शादी का झांसा देकर बलात्कार किया गया था। इस मामले में आरोपी रिश्तेदार है इसलिए सुप्रीम कोर्ट के मीडिया को लेकर जारी निर्देशों के तहत उसका नाम हम उजागर नहीं कर रहे। पीड़िता ने छतरपुर में जाकर जीरो में प्रकरण दर्ज कराया था। जिसके बाद केस डायरी हबीबगंज थाने में आई थी। पुलिस ने 156/24 धारा 376/3/4 (बलात्कार और दहेज अधिनियम के तहत 20 मार्च की रात लगभग दस बजे प्रकरण) दर्ज किया गया। इस मामले में तीन आरोपी है। जिनमें उसका पति भी आरोपी है। इन्हीं तकनीकी बिंदुओं को लेकर सच्चाई जानने के लिए थाना प्रभारी सरिता वर्मन (TI Sarita Verman) को लगाया गया। उन्होंने बताया कि मेरे पास इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है। मैं एक घंटे बाद आपसे केस डायरी देखकर चर्चा कर सकूंगी। वहीं जांच अधिकारी एसआई नारायण सिंह ठाकुर (SI Narayan Singh Thakur) बातचीत की बजाय फोन उठाने से बचते रहे। बलात्कार के मामले में तीन आरोपी है। जिनकी भूमिका को लेकर पूरा थाना स्टाफ स्थिति साफ नहीं कर सकी। यह उस राजधानी के हालात है जहां डीजीपी से लेकर गृह सचिव के सरकारी बंगले हैं। उसी बंगलों की निगरानी के लिए भारी भरकम फोर्स हबीबगंज थाने को दिया गया है। जबकि दूसरे थानों में महिला अफसरों की भारी कमी है। लापरवाही यहां नहीं थमती है, आलम यह है कि महिला संबंधित अपराध होने के बावजूद केस डायरी पुलिस अफसर को जांच के लिए थमा दी गई है। यह उस थाने के हाल हैं जिसकी प्रभारी महिला अधिकारी है।

यह भी पढ़ें:   Dilip Buildcon Raid: ​दिलीप बिल्डकॉन के पार्टनर गिरफ्तार

यह भी पढ़िएः तीन सौ रूपए का बिल जमा नहीं करने पर बिजली काटने के लिए आने वाला अमला, लेकिन करोड़ों रूपए के लोन पर खामोश सिस्टम और सरकार का कड़वा सच

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!