MP Political Gossip: एमपी में शुरू हुई गंदी बातों की राजनीति 

Share

MP Political Gossip: कई नेताओं के सामने आने लगे ऑडियो—वीडियो, इंटरनेट मीडिया में लोग उतार रहे गुस्सा, सत्ता विरोधी लहर चरम पर पहुंची, बहाना लेकर टालना पड़ी कैबिनेट बैठक

MP Political Gossip
सांकेतिक चित्र टीसीआई

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजनीति में भूचाल आना शुरू हो गया है। सत्ता विरोधी लहर इंटरनेट मीडिया में बहुत जमकर चल पड़ी है। यहां विपक्षी नेता (MP Political Gossip) हावी तो पक्ष के नेता सरेंडर कर चुके हैं। इस रण में अब ऑडियो—वीडियो भी सामने आने लगे हैं। ऐसा नहीं है कि इनमें केवल छोटे नेताओं का नाम नहीं है। कई रसूखदार मंत्री भी शामिल है। इनके वीडियो खबर की शक्ल में बनाकर इंटरनेट मीडिया में जमकर प्रसारित हो रहे हैं।

कांग्रेस के निशाने पर एक्सटेंशन पर चल रहे एक अफसर

एमपी में इन दिनों भारतीय प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी कांग्रेसी नेताओं के टारगेट पर हैं। उनसे जुड़ी तमाम जानकारियों को कांग्रेस ने बहुत पहले जुटा लिया है। इसमें कोविड के दौरान जुड़ी जानकारियां भी है। फिलहाल वह अभी बाजार में नहीं आई है। उसके आने के बाद कई लोगों की किरकिरी होना तय है। यह जानकारी बकायदा सूचना के अधिकार में निकाली गई है। वह भी तब जब निशाने पर आए यह अधिकारी उस विभाग के मुखिया थे। फिलहाल एक्सटेंशन पर बैठाए गए इन अधिकारी की शिकायत लोकायुक्त कार्यालय में की गई है।

कितनों के टिकट कटेंगे वह तय करेगा चुनावी समर का माहौल

पिछले दिनों भाजपा ने 39 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है। खबर है कि इसमें नौ चेहरे बदले जा रहे हैं। वजह मैदानी स्तर पर हो रहा इन नेताओं का विरोध। कांग्रेस इस मामले में हर कदम फूंक—फूंककर रख रही है। वह प्रत्येक सीट के जातिगत समीकरणों के अलावा भाजपा के संभावित भीतरघातियों को देखते हुए अपना गणित जमा रही है। इसके अलावा भाजपा की तरफ से यह भी चर्चा चल पड़ी हैैं कि एमपी के चुनाव में गुजरात मॉडल लागू किया जाएगा। जिसमें पुराने कई चेहरों को घर बैठाया जाएगा। अब कई रसूखदार नेता अपने नाम की स्थिति जानने के लिए इन दिनों दिल्ली—भोपाल के बीच अपना नेटवर्क स्थापित करने में जुटे हैं।

कांग्रेस की रैली में बारीक नजर

MP Political Gossip
सांकेतिक चित्र टीसीआई

राजधानी में कांग्रेस की 3 सितंबर को संविधान बचाओ रैली आयोजित की जा रही है। इसका मुख्य केंद्र बिंदु नरेला विधानसभा है। इस रैली को बहुत बारीकी से निगरानी में रखा गया है। इसमें कौन व्यक्ति किस हिसाब से काम कर रहा है उसका आंकलन किया जा रहा है। इस सीट पर कांग्रेस (MP Political Gossip) की तरफ से दो चेहरे आमने—सामने हैं। जबकि भाजपा के एक नेता भी इस सीट पर बदलाव चाहते हैं। जिसके लिए वह हर संभव प्रयास करके अपना नाम आगे कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Theft Case: बिजली ऑफिस से केवल डीवीआर गायब

अभी तो यह अंगड़ाई है आगे आने वाले कई ऑडियो है

सत्ता विरोधी लहर को थामने के लिए मैन स्ट्रीम मीडिया में राष्ट्रीय पार्टी दिल्ली के रास्ते समीकरण बैठाने में जुटी हुई है। लेकिन, इंटरनेट मीडिया आग में घी डालने का काम कर रहा है। इस पर नियंत्रण कर पाना चुनौती से भी कम नहीं हैं। केंद्र और राज्य सरकार की नीतियों को लेकर कुछ यू—ट्यूब चैनल हर दिन एक नया पोल खोल दे रहे हैं। वह चाहे इंडिया गठबंधन हो या फिर उसमें जुड़ने वाले पाटियों की गतिविधि वह सारे सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ जा रहे हैं।  इसमें पुराने ऑडियो—वीडियो आग में घी डालने का काम कर रहे हैं। एक ऑडियो प्रदेश सरकार के मंत्री का है। जिसमें वे लॉक डाउन के दौरान गन लायसेंस के लिए फोन करने वाले एक कार्यकर्ता को जमकर गरिया रहे हैं। इसके अलावा एक पार्टी के नेता का लड़की से बातचीत करता हुआ ऑडियो भी अभी से इंटरनेट मीडिया पर चल चुका है।

कांग्रेस नेता ने खोल दी पोल

MP Political Gossip
सांकेतिक चित्र टीसीआई

पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अचानक दिल्ली जाना पड़ा। इससे पहले वे लाडली बहना योजना के आयोजन से पूर्व मिंटो हॉल में एक नेशनल टीवी के इवेंट में शिरकत करने पहुंचे थे। उसके ही बाद नए मंत्रियों के साथ कैबिनेट बैठक (MP Political Gossip) तय की गई थी। जिसे अचानक टालते हुए मुख्यमंत्री दिल्ली चले गए। चुनाव का सीजन है नाम तय करने को लेकर भीतर ही भीतर सुगबुगाहट चल रही है। इसलिए सत्तारूढ़ के साथ विपक्षी नेताओं का भी इस यात्रा को लेकर जानने की उत्सुकता दिखाई दी। जिसकी जानकारी कांग्रेस के एक प्रवक्ता ने सार्वजनिक कर दी। उन्होंने अपने ट्वीट में बताया कि दिल्ली वे एक चैनल के कार्यक्रम की रिकॉर्डिंग पर गए हैं। जिसके बाद सत्तारूढ़ के ही कई नेताओं ने चैन की सांस भी ली।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Crime: दो बार जहर खाया, अब दहेज प्रताड़ना का मुकदमा दर्ज

खबर के लिए ऐसे जुड़े

MP Political Gossip
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!