CAB Effect: मुर्शिदाबाद में कैलाश विजयवर्गीय Go Back के नारे लगे

Share

सुरक्षा बल ने घेरकर नाराज भीड़ के बीच से भाजपा महासचिव को निकाला, कैब बिल को लेकर हो रहा था विरोध

CAB Effect
भाजपा महासचिव ने मुर्शिदाबाद में कुछ इस तरह से विरोध का सामना किया

कोलकाता। देश में नागरिकता संशोधन बिल (#Citizenship Amendment Bill) को लेकर हो रहा विरोध अब भाजपा नेताओं (BJP Leader) के लिए गले की हड्डी बन गया है। मध्यप्रदेश (#Madhya Pradesh) के कद्दावर नेता और भारतीय जनता पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (#Kailash Vijayvargiya) को इस बिल के विरोध का जबरदस्त सामना करना पड़ा। वे पश्चिम बंगाल (West Bengal) के मुर्शिदाबाद (Murshidabad) में पहुंचे थे। यहां उन्हें काले झंडे दिखाने के साथ—साथ कैलाश विजयवर्गीय गो बैक (Go Back) के नारे लगने लगे। यह देेखकर विजयवर्गीय ने रिक्शा तो कभी अन्य साधनों की मदद लेकर वहां से निकलने का प्रयास किया।

जानकारी के अनुसार कैब (CAB) के बाद मुर्शिदाबाद में चलती ट्रेन में जोरदार पथराव (Murshidabad Stone Pelting) की घटना भी पिछले दिनों आई थी। यहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamta Benrji) इस बिल को लेकर खुलकर सामने आ चुकी है। उन्होंने बिल को प्रदेश में लागू न करने का ऐलान पहले ही कर दिया है। उन्होंने इस बिल के खिलाफ एक दिन पहले ही विरोध रैली (CAB Protest Rally) भी की थी। इस बिल का असर जिन 11 राज्यों में होना है उनमें से पश्चिम बंगाल भी है। यहां सर्वाधिक बांग्लादेश के अप्रवासी नागरिक रहते हैं। हालांकि गृहमंत्री ममता बनर्जी के बयानों को लेकर कह चुके हैं कि यह केंद्र की नीतियों का हिस्सा है। इसे राज्य को लागू करना होगा। यह संसद भवन में पारित बिल है।

यह भी पढ़ें:   Kolkata : स्कूल के टॉयलेट में लहूलुहान हालत में मिली 10 वीं की छात्रा, मुंह पर बंधा था प्लास्टिक

यह भी पढ़ेंं: पूर्व मंत्री का वीडियो जिसमें वह आरएसएस और भाजपा के नेताओं को कोस रहे हैं जानिए क्यों

इन बवाल के बीच महासचिव कैलाश विजयवर्गीय बुधवार को मुर्शिदाबाद पहुंचे थे। यह जानकारी मिलने के बाद वहां तृणमूल कांग्रेस (#TMC) समेत अन्य दलों के कार्यकर्ता एकजुट हो गए। उन्होंने विजयवर्गीय को घेर लिया और नारेबाजी करने लगे। विजयवर्गीय नवग्राम के पास पहुंचे थे। यह इलाका अल्पसंख्यकों की बस्ती में आता है। बताया जाता है कि विजयवर्गीय के साथ धक्का—मुक्की भी की गई। इसका एक वीडियो भी वायरल हुआ। वे बचने के लिए सुरक्षा घेरे में यहां—वहां होते हुए दिख रहे हैं।

इस मामले में कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट भी किया है। उन्होंने कहा कि मुझे मुस्लिमों की भीड़ ने घेर लिया है। मेरी गाड़ी भी नहीं निकल पा रही है। प्रशासन की तरफ से कोई सहयोग नहीं मिल रहा। एसपी और डीजीपी फोन तक नहीं उठा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में अराजक माहौल है। यहां कोई भी सुरक्षित नहीं हैं। उन्होंने ममता बनर्जी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि विपक्ष की आवाज का गला घोंट रही है सरकार।
यह भी पढ़ें: शहीदों का सम्मान मध्यप्रदेश में कितना जानिए सच्चाई

दिग्विजय भी धरने पर
इस बिल का भोपाल में भी विरोध हो रहा है। विरोध भोपाल के मोती मस्जिद के समीप मैदान पर किया जा रहा है। इसमें सामाजिक कार्यकर्ताओं के अलावा सैंकड़ों की संख्या में भीड़ पहुंची है। इस विरोध कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री ​दिग्विजय सिंह भी पहुंचे हैं। विरोध करने के लिए यह रैली मध्य भोपाल विधानसभा से विधायक आरिफ मसूद ने आयोजित की है। इससे पहले इकबाल मैदान पर भी आरिफ मसूद विरोध रैली निकाल चुके हैं।

यह भी पढ़ें:   Mamata Banerjee ने कहा- भाजपा 'फेंकुओं' की पार्टी है

अपील
द क्राइम इंफो डॉट कॉम विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज द क्राइम इंफो डॉट कॉम के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!