Guna Road Accident: मजदूरों से भरा कंटेनर बस से जा भिड़ा

उत्तर प्रदेश के आठ मजदूरों की मौके पर मौत, चार दर्जन से अधिक जख्मी

घटना स्थल की तस्वीर

भोपाल। (Bhopal Crime News In Hindi) देश में मजदूरों का पलायन जारी है। इन मजदूरों को सरकारी सिस्टम में कोई सहायता नहीं मिल पा रही। नतीजतन अपने संसाधनों की मदद से मजदूर अपने घर पहुंच रहे हैं। सर्वाधिक पलायन महाराष्ट्र से हो रहा है। इसी महाराष्ट्र का एक कंटेनर मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh Road Accident) के गुना (Guna Road Accident) जिले में यात्री बस से भिड़ गया। कंटेनर में दर्जनों मजदूर थे जो उत्तर प्रदेश (UP Migrant Labor Death Case) जा रहे थे। दुर्घटना में 8 मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई। वहीं 50 से अधिक जख्मी है। घटना के बाद राज्य सरकार ने मृत परिवार के परिजनों को दो—दो लाख रुपए और घायलों का इलाज करने की घोषणा की गई। इधर, पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ (EX CM Kamal Nath) ने इस घटना को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने शोक जताते हुए कहा कि पीड़ित परिवारों की मदद की जाए। घर जा रहे मजदूरों को उनको गंतव्य तक पहुंचाने में सरकार मदद करे।

जानकारी के अनुसार दुर्घटना का यह मामला एनएच—46 का है। यहां दुर्घटना बुधवार—गुरुवार की दरमियानी रात दो बजे हुई थी। पुलिस को जांच में यह पता चला है कि कंटेनर ने एक—एक यात्री से तीन—तीन हजार रुपए यूपी पहुंचाने के लिए थे। दुर्घटना में जिन मजदूरों की मौत हुई है उनमें इब्राहिम पिता शेर अली उम्र 18 निवासी उन्नाव, अजीत पिता राजकुमार कोरी उम्र 20 साल, अर्जुन पिता भोला कोरी उम्र 21 साल, वसीम पिता हफीज खां उम्र 23 साल, रमेश पिता रामप्रसाद उम्र 43 साल, सुधीर पिता उमेश चंद्र 22 साल, गंगाचरण पिता गोवर्धन पाल है। यह सभी उन्नाव और रायबरेली जिले के रहने वाले थे। मृतकों में एक शव की पहचान अभी नहीं हो सकी है। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Narrottam Mishra) ने मारे गए मजदूरों के प्रति संवेदना जताते हुए कहा कि सरकार सभी घायलों का समुचित इलाज करा रही है। मृत परिवार के सदस्यों को दो—दो लाख रुपए और घायलों को 50—50 हजार रुपए की सहायत की जा रही है।

यह भी पढ़ें:   MP Police Gossip: घर का भेदी लंका…

अपील

देश वैश्विक महामारी से गुजर रहा है। हम भी समाज हित में स्पॉट रिपोर्टिंग करने से बच रहे हैं। इसलिए समाज और लोगों से अपील करते हैं कि यदि उनके पास भ्रष्टाचार, कालाबाजारी या जिम्मेदार अफसरों की तरफ से लापरवाही की कोई जानकारी या सूचना हैं तो वह मुहैया कराए। www.thecrimeinfo.com विज्ञापन रहित दबाव की पत्रकारिता को आगे बढ़ाते हुए काम कर रहा है। हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे फेसबुक पेज www.thecrimeinfo.com के पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!