MP Cop Gossip: सनसनीखेज कहानी को प्रशासनिक कारण बना दिया

Share

MP Cop Gossip: पुलिस महकमे के बेदर्द अफसरों ने छुपाई है भीतर की यह कहानी

MP Cop Gossip
सांकेतिक चित्र

भोपाल। मध्य प्रदेश पुलिस (MP Cop Gossip) की राजधानी भोपाल में पहले पोस्टिंग के लिए काफी दक्षता की परीक्षाओं में खरा उतरना पड़ता था। लेकिन, पिछले दो दशक से अब यह दूर की कौड़ी हो गई है। विभाग अपनी कमजोरियों पर पर्दा डालकर अफसर अपने इसको हुनर बताते हैं। ताजा मामला गुनगा थाना क्षेत्र का है। यहां मंगलवार को एक एसआई समेत तीन पुलिस कर्मचारियों को लाइन हाजिर किया गया है। अफसर इस मामले को दबाए रखना चाहते हैं। क्योंकि यह बात लीक हुई तो बहुत ज्यादा किरकिरी हो जाएगी।

कहां है महिला नहीं है पता

पुलिस सूत्रों के अनुसार राजधानी के नजदीक हलाली डैम है। यहां मछली पालन का बड़ा ठेका दिया जाता है। इसका अधिकांश हिस्सा दूसरे थाना क्षेत्र मेें आता है। इसके बावजूद गुनगा थाने के दो पुलिसकर्मियों ने दूसरी सीमा में जाकर दुस्साहस किया। इस कारण उन्हें लाइन हाजिर किया गया। वहीं इस मामले में पर्दा बनाने वाले एसआई को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है। अफसरों की सांसे पिछले दो दिनों से उपर—नीचे हो रही है। कहीं कोई यह न पूछ ले कि वह महिला कहां पर भर्ती है। लाइन हाजिर करने को अफसर प्रशासनिक कारण बता रहे हैं। लेकिन, कानों—कान चल रही यह बात अब छुपती नजर नहीं आ रही है।

यह था पूरा मामला

MP Cop Gossip
सांकेतिक चित्र

सूत्रों के अनुसार हलाली डैम से मछली चोरी करके एक युवक और एक महिला जा रहे थे। जिनका पीछा दो पुलिस वालों ने किया। जहां वे पीछा कर रहे थे वह उनका थाना क्षेत्र नहीं था। नजदीक पहुंचने पर चलते वाहन में पैर मारकर महिला और पुरुष को गिरा दिया गया। जिसमें महिला के सिर पर गंभीर चोट आई। वह खून की उल्टियां करने लगी। यह देखकर एम्बुलेंस बुलाने की जगह पुलिस वाले वहां से भाग गए। हालांकि इस घटना से गुनगा थाने के एसआई रमेश शर्मा (SI Ramesh Sharma), एचसीएम साहब सिंह (Sahab Singh) और सिपाही मानवेंद्र सिंह (Constable Manvendra Singh) के लाइन हाजिर होने की कोई वजह नहीं हैं।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Shelter Home News: क्रूर सिस्टम के रवैये पर शिवराज मामा मौन

कमाई वाली जगह बन गई जेल

पिछले दिनों कोरोना ने पूरे प्रदेश के साथ—साथ स्वास्थ्य महकमे को हिलाकर रख दिया। इस कारण कई जेलों के बंदियों को एक महीने का अतिरिक्त पैरोल बढ़ाया गया। यह आदेश अब जेल विभाग के लिए कमाई का जरिया बन गया। कई जगहों पर जेल के सामने बने मंदिर में चढ़ावा और प्रसाद देने के बाद भीतर से आदेश मिल रहा है। आलम यह है कि अब इसमें गुटबाजी होने लगी है। न​तीजतन, जेल की खबरें चाहरदीवारी से निकलकर बाहर आने लगी है। अब उस वक्त का इंतजार किया जा रहा है जब यह अनियमितता किसी दिन प्रदेश से राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी खबर बन जाए।

बिल मैनेज करने की चुनौती

MP Police Gossip
सांकेतिक चित्र

पिछले दिनों कोरोना के चलते लॉक डाउन था। उस वक्त एक पुलिस अधिकारी की पत्नी का एनजीओ बहुत सक्रिय होकर गरीबों के लिए काम कर रहा था। एनजीओ गरीबों को मु्फ्त में भोजन बांट रहा था। यह काम संबंधित थाने के सरकारी वाहन से किया जा रहा था। अब इन वाहनों के पेट्रोल—डीजल के बिल मैनेज करने के लिए पहुंच रहे है। जिसके लिए महकमे के भीतर काफी खींचतान मची हुई है।

यह भी पढ़ें: देशभर के बलराम पर कोहराम मचाने वाली पार्टियां इन किसानों की समस्याओं पर खामोश आखिर क्यों खामोश है

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!