Covid Dedicated Hospital Mishap: कोरोना पॉजिटिव 8 मरीज की आग से झुलसकर मौत

Share

Covid Dedicated Hospital Mishap: अस्पताल के आईसीयू में हुआ था शार्ट सर्किट, महिला के बालों में लगी थी आग, आग बुझाने आए कर्मचारी भी झुलसे

Covid Dedicated Hospital Mishap
अहमदाबाद का श्रेय अस्पताल जिसमें भीषण आग लगी

अहमदाबाद। अहमदाबाद के नवरंगपुरा के कोविड अस्पताल (Ahmedabad Hospital Fire Case) में भीषण आग लगने से 8 लोगों की झुलसकर दर्दनाक मौत (Shrey Hospital Died Of Burn Injuries) हो गई। मरने वालों में 5 पुरुष और 3 महिलाएं हैं। एडिशनल चीफ सेक्रेटरी राजीव कुमार गुप्ता (ACS Rajiv Kumar Gupta) ने मौत की पुष्टि करते हुए बताया है कि हादसा श्रेय अस्पताल (Shrey Hospital Charred Body) में हुआ था। इस अस्पताल को कोविड—19 डेडीकेटेड अस्पताल (Covid-19 Hospital Fire Case) बनाया गया था। श्रेय अस्पताल को सील (Covid Dedicated Hospital Mishap) कर दिया गया है। वहां भर्ती 41 मरीजों को सरदार वल्लभ भाई पटेल अस्पताल (Sardar Vallabh Bhai Patel Hospital) में शिफ्ट किया गया है।

50 बैड के आईसीयू में 45 मरीज

पुलिस ने बताया आग गुरुवार सुबह 3:30 बजे लगी थी। आग श्रेय अस्पताल (Ahmedabad Shrey Hospital Case) की आईसीयू में शार्ट सर्किट हुआ था। जिस पलंग में यह घटना हुई वहां महिला भर्ती थी। चिंगारी महिला के बाल पर आकर गिरी। जिसकी वजह से वह फैलती चली गई। आग बुझाने आए अस्पताल के कर्मचारी भी झुलस गए। देखते ही देखते आग दूसरे वार्ड में पहुंच गई। वार्ड में करीब 50 बैड थे और उस वार्ड में कोरोना के संक्रमित 45 मरीज थे। 8 लोगों की मौत हो गई है और 41 लोग गम्भीर रूप से घायल हो गए हैं।

प्रधानमंत्री ने जताया दुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने घटना को दुखद बताया है। उन्होंने राष्ट्रीय राहत कोष से हादसे में मारे गए परिवार को 2—2 लाख रुपए तथा घायल को 50—50 हजार रुपए देने की घोषणा की है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी (CM Vijay Rupani) ने जांच के आदेश दिए हैं। जांच का प्रभार एडिशनल चीफ सेक्रेट्री संगीता सिंह (ACS Sangita Singh) को सौंपा गया है। मुख्यमंत्री ने पूरी घटना की रिपोर्ट तीन दिन के भीतर देने के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें:   Grih Pravesham Ceremony: पितृपक्ष में पौने दो लाख गरीबों का गृह प्रवेश कार्यक्रम

एमपी के सीएम ने भी जताया दुख

चश्मदीदों ने बताया आग की लपटें काफी थी। इस वजह से हाहाकार मच गया था। आईसीयू और वार्ड में आग फैल चुकी थी। पुलिस और फायर ब्रिगेड के कर्मचारियों ने लोगों को बचाया। दूसरे वार्डों में शिफ्ट किया। उन्होंने बताया कि मरने वालों संख्या बढ़ सकती है। उधर, परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाया है कि फायर ब्रिगेड को सूचना देरी से दी गई। घटना के बाद पूरे देश में शोक की लहर फैल गई थी। कोविड अस्पतालों की अव्यवस्थाओं को लेकर पहले ही लोग कई माध्यमों से विरोध जता रहे थे। इधर, ताजा घटना से यह साबित हो गया है कि कोविड डैडीकेटेड सेंटर में लापरवाही किस हद तक हैं। इस घटना को लेकर कई राज्यों के नेताओं ने भी दुख जताया है। वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को दुखद बताया है। उन्होंने कहा है कि ऐसे समय में भारत की जनता उनके साथ है। जिस भी तरह की मदद की जरूरत पड़ेगी हम करेंगे।

यह भी पढ़ें: बेटी की तलाश में एक पिता ने अपनी सारी संपत्तियां बेच दी, सीबीआई भी नहीं तलाश पाई

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!