Bhopal Admission Fraud: इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के मालिक का भतीजा बनकर धोखाधड़ी

Share

Bhopal Admission Fraud: रेडियोलॉजी में एमडी की सीट दिलाने के नाम पर जालंधर के डॉक्टर से साढ़े 22 लाख रुपए की धोखाधड़ी

Bhopal Admission Fraud
कोलार थाना—फाइल फोटो

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal Admission Fraud) के कोलार थाने में जालसाजी का एक मामला दर्ज किया गया है। इस मामले के चार आरोपियों ने मिलकर जालंधर के एक डॉक्टर से साढ़े बाइस लाख रुपए की धोखाधड़ी की है। मुख्य आरोपी ने इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के संचालक का भतीजा बनकर यह जालसाजी की है। पुलिस का कहना है कि मामले की जांच केे बाद कई परतें उजागर होगी। फिलहाल आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

होटल के कमरे में हुई मुलाकात

कोलार थाना पुलिस के अनुसार शिकायत डॉक्टर शुभम सहगल उम्र 25 साल ने दर्ज कराई है। वे पंजाब केे जालंधर शहर में गोपाल नगर इलाके में रहते हैं। उन्होंने जनवरी, 2020 में नीट की परीक्षा पास की थी। जिसके बाद उनसे रंजन नाम के व्यक्ति ने संपर्क किया। उसने पीजी एमडी रेडियो डायप्रोसिस की सीट दिलाने का भरोसा दिलाया। इसके लिए उसने विश्वजीत से बातचीत करने के लिए बोला। डॉक्टर शुभम सहगल इंदौर में स्थित इंडेक्स मेडिकल कॉलेज में दाखिला चाहते थे। दाखिले के लिए वे फरवरी, 2020 में पहली बार इंदौर आए थे। इस दौरान पिता राजीव सहगल के साथ वे होटल बंजारा में ठहरे थे। यहां विश्वजीत ने उनकी मुलाकात रोहित भदौरिया से कराई थी।

एडवांस में मांगी रकम

Bhopal Admission Fraud
इंडेक्स अस्पताल— साभार

मामले में आरोपी विश्वजीत ने रोहित भदौरिया को इंडेक्स मे​डिकल कॉलेज के मालिक सुरेश भदौरिया का भतीजा बताया था। रोहित ने उनसे दावा किया कि इंडेक्स के अलावा भोपाल के कोलार में स्थित एडवांस मेडिकल कॉलेज और देवास के अमलतास मेडिकल कॉलेज का काम वही देखता है। इन तीनों मेडिकल कॉलेज में वह दाखिला दिला देगा। हर साल की फीस 10 लाख 46 हजार रुपए होगी। इसके अलावा उनसे 10 लाख रुपए केपिटेसन फीस के नाम पर मांगे गए। सौदा तय होने पर 10 लाख एडवांस देना होगा यह कहा गया। पिता—पुत्र ने उस वक्त रकम मौजूद न होने का कहते हुए बाद में संपर्क करने की सहमति बनी थी। लगभग एक सप्ताह बाद डॉक्टर शुभम सहगल वापस उसी होटल में विश्वजीत के कहने पर पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें:   Bhopal Suicide News: पीएससी की तैयारी कर रही छात्रा ने सल्फास खाया

यह भी पढ़ें: इन भाजपा नेता का मामला था इसलिए पुलिस ने जांच करके इस अस्पताल मालिक के खिलाफ जल्दी एफआईआर कर ली।

दूसरे राउंड की काउंसलिंग में नाम नहीं

आरोपी विश्वजीत ने वहां डॉक्टर शुभम सहगल को लेने के लिए अभिषेक राज को भेजा गया। उस दिन लग्जरी कार में रोहित भदौरिया से मुलाकात कराई गई। सहगल ने 7 लाख रुपए नकद का भुगतान कर दिया। आरोपी रोहित भदौरिया ने कहा कि जब वे तीन लाख रुपए नहीं देंगे तो सीट फायनल नहीं होगी। इस कारण घर पहुंचकर उन्हें विश्वजीत और अभिषेक राज के खाता नंबर तीन लाख रुपए जमा कराने के लिए मुहैया कराए गए। जब यह डील चल रही थी तब काउंसलिंग का पहला राउंड हो चुका था। रकम जमा करने के बाद दूसरे राउंड की काउंसलिंग में उसका नाम नहीं आया। हालांकि यह काउंसलिंग कोरोना संक्रमण के चलते देरी से भी हुई थी।

संचालक ने पहचानने से इंकार किया

Bhopal Admission Fraud
अमलतास अस्पताल—साभार

दस लाख मिलने और काउंसलिंग में नाम नहीं आने के बावजूद यह कहते रहे कि सीट अलॉट करा दी जाएगी। उनसे कहा गया कि फीस जमा कर दीजिए। नहीं तो सीट अलॉट करने में परेशानी हो सकती है। इसके अलावा उनसे कहा गया कि फीस में 2 लाख 80 हजार रुपए की भी बढ़ोत्तरी हो गई है। डॉक्टर शुभम सहगल का मापअप राउंड में भी नाम नहीं आया। इस कारण परिवार को शक हुआ और उन्होंने इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के मालिक सुरेश भदौरिया का नंबर पता लगाकर संपर्क किया। उन्होंने रोहित भदौरिया को पहचानने से इंकार कर दिया। लेकिन, उसी बातचीत के कुछ देर बाद रोहित का फोन उनके पास आया। उसने कहा कि आपको सुरेश भदौरिया से संपर्क नहीं करना था।

यह भी पढ़ें:   #rapist_jalao का असर एमपी में भी दिखने लगा

यह भी पढ़ें: कोरोना की खतरनाक लहर के बीच मरीजों से प्रायवेट अस्पताल के मालिक इस तरह से कर रहे थे खिलवाड़

चेक पेमेंट को रुकवाया

पिता—पुत्र ने दाखिला लेने से इंकार किया। उन्होंने रोहित भदौरिया से दी गई रकम वापस मांगी। काफी चक्कर काटने के बाद अक्टूबर, 2020 में 7 लाख रुपए का चेक अगले महीने की तारीख में दिया। हालांकि यह चेक बाउंस हो गया। विरोध करने पर दो चेक दिए गए जिसका स्टॉप पेमेंट कराया गया। इन हरकतों से डॉक्टर शुभम सहगल को यकीन हो ​गया कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है। जिसके बाद उन्होंने एसपी साउथ भोपाल साई कृष्णा थोटा से मुलाकात करके जालसाजी की शिकायत की। पुलिस ने आवेदन के आधार पर धारा 420/120/34 (जालसाजी, षडयंत्र रचना और एक से अधिक आरोपी) का केस दर्ज कर लिया गया। इस मामले के आरोपी रोहित भदौरिया, विश्वजीत, अभिषेक और रामरंजन को बनाया गया है। पुलिस को शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी इंडेक्स मेडिकल कॉलेज के पूर्व कर्मचारी हैं।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!