4 हजार करोड़ के घोटाले के आरोपी आईएएस अधिकारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

Share

IAS BM Vijay Shankar पोंजी घोटाले में सीबीआई चलाने वाली थी मुकदमा

IAS BM Vijay Shankar
बीएम विजय शंकर, आईएएस, फाइल फोटो

बेंगलुरु। कर्नाटक के आईएएस अधिकारी बीएम विजय शंकर (IAS BM Vijay Shankar) की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। विजय शंकर अपने घर में मृत अवस्था (Found Dead) में मिले है। 4 हजार करोड़ के पोंजी घोटाले (IMA Ponzi Scam) में आईएएस विजय शंकर आरोपी थे। सीबीआई भी उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की तैयारी कर रही थी। आईएएस अधिकारी की संदिग्ध मौत से सनसनी फैल गई है। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

घर में मृत मिले विजय शंकर

आईएएस अधिकारी बी एम विजय शंकर मंगलवार रात बेंगलुरु में अपने आवास पर मृत मिले हैं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। सीबीआई 4,000 करोड़ रुपये के आईएमए पोंजी घोटाले में शंकर के खिलाफ मुकदमा चलाना चाहती थी।

पुलिस के अनुसार बेंगलुरु शहरी जिले के पूर्व उपायुक्त शंकर यहां जयानगर में अपने आवास पर मृत मिले हैं। उन्होंने विस्तृत जानकारी दिये बिना कहा, ‘यह सच है कि वह अपने घर पर मृत मिले हैं।’ विजय शंकर पर आईएमए पोंजी घोटाले पर पर्दा डालने के लिये कथित रूप से रिश्वत लेने का आरोप है।

राज्य सरकार से मांगी थी अनुमति

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी नीत गठबंधन सरकार ने 2019 में एक विशेष जांच दल का गठन किया था, जिसने शंकर को गिरफ्तार किया था। इसके बाद भाजपा सरकार ने इस मामले को सीबीआई के हवाले कर दिया। सीबीआई के सूत्रों ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि हाल ही में एजेंसी ने इस मामले में शंकर और दो अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिये राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी।

यह भी पढ़ें:   सिख युवक की पिटाई का वीडियो वायरल, 2 पुलिसकर्मी सस्पेंड

सीबीआई ने इस मामले में दो वरिष्ठ आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिये भी राज्य सरकार से इजाजत मांगी थी।
मोहम्मद मंसूर खान ने 2013 में बड़ी रकम वापस करने का वादा कर पोंजी स्कीम शुरू की थी। यह मामला उसी से जुड़ा है।

एनजीओ का काम देने का लालच देकर बलात्कार करता था कलेक्टर

खबर के लिए ऐसे जुड़े
हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। इसलिए हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 9425005378 पर संपर्क कर सकते हैं।
Don`t copy text!