Chhattisgarh Jail Brake: जेल में इस तरह मनाई बंदियों ने धनतेरस

Share

दो प्रहरियों को किया निलंबित, बंदियों की धरपकड़ के लिए टीमें हुई रवाना

Chhattisgarh Jail Break
सांकेतिक तस्वीर

रायपुर। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के मुंगेली (Mungeli) जिले में उप जेल से चार विचाराधीन बंदी फरार (Chhattisgarh Jail Brake) हो गए। इस बात की खबर जेल प्रबंधन (Prison Head Quarter) को मिली तो हडकंप मच गया। आनन—फानन में जेल प्रशासन ने दो प्रहरियों को इसके लिए जिम्मेदार मानते हुए उन्हें निलंबित (Suspend) कर दिया गया। फरार बंदियों (Prisoner’s) की धरपकड़ के लिए टीमें रवाना कर दी गई हैं। लेकिन, अब तक कोई कामयाबी नहीं मिल सकी है।
जानकारी के अनुसार उप जेल (Sub Jail) से चार विचाराधीन बंदी (Under-Trial Prisoner) शुक्रवार देर रात करीब सवा बारह बजे फरार हो गए। यह बंदी जेल के बैरक नंबर तीन में बंद थे। बंदियों ने सबसे पहले ताला तोड़ा फिर गमछे के सहारे फंदा बनाकर दीवार फांदकर फरार (Chhattisgarh Jail Brake Case) हो गए। ​इस बात की जानकारी मिलते ही पूरे जेल में हड़कंप मच गया। फरार हुए बंदियों में तरूण उर्फ छोटू बलात्कार (Rape Accused) के मामले में जेल में था। वहीं धीरज हत्या का आरोपी है। चारों विचाराधीन बंदी हैं। फरार बंदियों की सूचना जेल प्रबंधन को दे दी गई है। जेल प्रबंधन ने बंदियों की निगरानी में मौजूद प्रहरियों को निलंबित कर दिया है। वहीं जेल से फरार बंदियों को धरपकड़ के लिए टीमें रवाना कर दी गई है। बंदियों के घर के बाहर भी निगरानी रखी गई है। इधर, सभी आस—पास के इलाकों में कड़ी सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए है। घटना के बाद जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने भी जेल का निरीक्षण किया। पुलिस को अभी फरार बंदियों को लेकर कोई कामयाबी हासिल नहीं हुई है।

यह भी पढ़ें:   गैस सिलेंडर फटने से महिला और दो बच्चों की मौत

फिर आई भोपाल की याद
छत्तीसगढ़ के मुंगेली जिले में हुई घटना (Chhattisgarh Jail Brake) ने भोपाल जेल ब्रैक कांड (Bhopal Jail Brake) की यादें ताजा कर दी है। यह घटना अक्टूबर, 2016 में हुई थी। इस घटना में सिमी (SIMMI) के 8 कुख्यात आतंकी (Hardcore Terrorist) भाग गए थे। इन्होंने भागने से पहले जेल प्रहरी रमाशंकर यादव (Rama Shnakar Yadav) की गला रेंत कर हत्या (Bhopal Jail Brutal Murder) कर दी थी। जो आतंकी जेल से भागे थे वे एक मुठभेड (Bhopal SIMMI Encounter) में मारे गए थे। जब आतंकी भागे थे उस वक्त भी जेल में दिवाली बनाई जा रही थी।

Don`t copy text!