Social Media Honey Trap: सोशल मीडिया पर फैला “हुस्न दिखाकर” फांसने वाला जाल

Share

Social Media Honey Trap: वीडियो कॉल के जरिए उकसाती हैं युवतियां, वीडियो बनाकर करती है ब्लैकमेलिंग, सामाजिक बदनामी के डर से कई अभी भी चुप

Social Media Honey Trap
सांकेतिक चित्र

भोपाल। इंटरनेट ने दुनिया को एक झटके में ग्लोबल बना दिया हैं। मिनटों में सूचनाएं यहां—वहां फैलने लगती है। इस तकनीक का हर स्तर पर प्रयोग किया जा रहा है। कुछ उत्पाद बनाने वाली कंपनियां है तो कुछ उसको बेचने वाली। इसके ही जरिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म भी चल रहे हैं। जहां लोग अपने विचारों को रखकर नजरिया रखते हैं। लेकिन, इन दिनों इसमें एक ऐसे माफियाओं की सेंध (Social Media Honey Trap) हो गई हैं जो समाज के लिए खतरनाक हैं। यह गिरोह जालसाजी, ब्लैकमेलिंग से लेकर फर्जीवाड़ा कर रहे हैं।

प्रायवेट पार्ट से होता है सिलसिला शुरु

राजस्थान (Rajasthan) के अजमेर शहर में रहने वाले एक युवक ने द क्राइम इंफो से मदद मांगी। दरअसल, उसकी शिकायत पुलिस सुन नहीं रही थी। वह रहने वाला मूलत: महाराष्ट (Maharashtra) के नागपुर शहर का है। वह कुंवारा है और इन दिनों एक मुर्गी दाना बनाने वाली कंपनी में जॉब के लिए अजमेर (Ajmer) में नौकरी करता है। उसके पास अप्रैल, 2021 में एक महिला ने संपर्क किया। दोस्ती फेसबुक (Facebook Sex Extortion) के जरिए हुई थी। चेहरा सुंदर था इसलिए फोन नंबर देकर व्हाट्स एप्प कॉल पर बातचीत होने लगी। इसी दौरान वह अपने प्रायवेट पार्ट भी दिखाने लगी। उससे भी कहा गया कि वह भी उसकी तरह बाथरुम में जाकर करें। ऐसा उसने लड़की के कहने पर कर भी दिया।

यह भी पढ़ें: यदि आपने दोस्त बनाने के लिए इस डेटिंग एप्प को डाउनलोड किया है तो उन चेहरों के बारे में जान लीजिए जो आपके लिए मुश्किलें खड़ी करेंगी

यह भी पढ़ें:   Chhatarpur Kidnapping Case: करोड़ों की फिरौती पर ​टीआई के बयान से सस्पेंस

कर्जा लेकर पैसा दिया

Social Media Honey Trap
इंदौर में गिरफ्तार आरोपी विक्रम के कब्जे से जब्त सीबीआई अफसर का फर्जी आईडी कार्ड। कुछ इसी तरह का आईकार्ड बनाकर अजमेर में पीड़ित को भी भेजा गया।

पीड़ित ने बताया कि यह सिलसिला अप्रैल में लगभग पंद्रह दिनों तक चला। जैसे ही वीडियो बना उसके दो दिन बाद उसको नग्न होने वाला वीडियो एक अनजान नंबर से भेजा गया। उससे कहा गया कि यदि वह पैसा नहीं देगा तो इसको सोशल मीडिया, यू—ट्यूब में अपलोड कर देंगे। पहले पीड़ित युवक नहीं डरा तो उसको सीबीआई के अफसर की एक फर्जी आइर्डी (Fake CBI Officer) बनाकर भेजी गई। फिर उसके पास यू—ट्यूब चैनल वालों को कॉल आने लग गए। परेशान होकर उसने किस्तों में करीब दो लाख 35 हजार रुपए दे दिए। आरोपी अब भी उससे 36 हजार रुपए की मांग कर रहे हैं। फर्जी सीबीआई अफसर बनकर इस तरह का एक मामला इंदौर क्राइम ब्रांच ने भी 2019 में उजागर किया था।

भोपाल में दो मामले दर्ज

Social Media Honey Trap
क्राइम ब्रांच थाना— फाइल फोटो

पीड़ित शिकायत लेकर अजमेर के गेगल थाना गया था। जहां से उसको यह बोलकर भगाया कि उनके यहां का मामला नहीं है। फिर उसको सिविल थाने भेज दिया। वहां उसको सायबर क्राइम में फोन लगाने बोला । फोन लगाने पर व्यस्त बताकर वह कट जाता है। इधर, अजमेर में हुए मामलों की ही तरह दो मामले भोपाल के क्राइम ब्रांच पुलिस ने दर्ज किए हैं। इस मामले में 189—190/2021 दर्ज किए गए हैं। जिसमें धारा 384 का केस दर्ज किया है। आरोपियों ने 30 हजार रुपए और 20 हजार रुपए की मांग की थी। इसमें एक मामले में लड़की जिसने अपना नाम आरोही शर्मा (Aarohi Sharma) बताया था वह ब्लेकमेल कर रही थी। हालांकि एएसपी अंकित जायसवाल (ASP Ankit Jaisawal) ने कहा कि उस मामले में पुलिस विभाग की तरफ से दी गई जानकारी गलत बन गई है। मामला 384 का नहीं 420 का है।

यह भी पढ़ें:   Dena Bank Fraud Case: धनीराम चार बैंक मैनेजरों को बना गया धनवान

यह भी पढ़ें: दो राज्यों से चल रहा था सेक्सटोर्शन गिरोह, जिसमें तीसरे राज्य के कई लोग ऐसे फंसते चले गए

यह रखें सावधानी

Social Media Honey Trap
Social Media File Image

सोशल मीडिया में किसी भी अनजान शख्स की प्रोफाइल चैक करने के बाद उससे बातचीत अथवा चैटिंग करें। यदि नहीं पहचानते हैं तो उन्हें ब्लॉक करें। अपनी प्रोफाइल मोबाइल के जरिए नियंत्रित करें। अनजान नंबर से दोस्ती और फोन आने पर सतर्क हो जाए। किसी भी अनजान व्यक्ति से ओटीपी साझा न करें। अपने व्यापार और बैंक से संबंधित नंबर वाले फोन पर सोशल मीडिया का इस्तेमाल न करें। आकर्षक दिख रही महिला की तस्वीर वाली प्रोफाइल से बचे। परिवार का सदस्य या दोस्त बनकर मदद मांगने वाले व्यक्ति से सीधे फोन पर बात करने के बाद सहायात करने का निर्णय ले।

खबर के लिए ऐसे जुड़े

Bhopal News
भरोसेमंद सटीक जानकारी देने वाली न्यूज वेबसाइट

हमारी कोशिश है कि शोध परक खबरों की संख्या बढ़ाई जाए। इसके लिए कई विषयों पर कार्य जारी है। हम आपसे अपील करते हैं कि हमारी मुहिम को आवाज देने के लिए आपका साथ जरुरी है। हमारे www.thecrimeinfo.com के फेसबुक पेज और यू ट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें। आप हमारे व्हाट्स एप्प न्यूज सेक्शन से जुड़ना चाहते हैं या फिर कोई घटना या समाचार की जानकारी देना चाहते हैं तो मोबाइल नंबर 7898656291 पर संपर्क कर सकते हैं।

Don`t copy text!